पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

अनुज बिदवे की स्मृति में फेलोशीप

अनुज बिदवे की याद में फेलोशीप

लंदन. 5 फरवरी 2012

अनुज बिदवे


इंग्लैंड में एक नस्लभेदी हत्यारे के हाथों मारे गये भारतीय छात्र अनुज बिदवे की याद में लैंकस्टर यूनिवर्सिटी ने एक छात्रवृत्ति देने की घोषणा की है. विश्वविद्यालय के कुलपति ने इस बारे में घोषणा करते हुये कहा कि अनुज बिदवे एक होनहार विद्यार्थी थे. उनकी स्मृति में हमने यह छात्रवृत्ति देने पर विचार किया है, जिससे उनको हमेशा याद किया जा सके.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र के पुणे निवासी 23 साल के अनुज बिदवे की 27 दिसंबर की शाम उस समय हत्या कर दी गई थी, जब वे सड़क पर अपने दो भारतीय मित्रों के साथ सॉल्फर्ड शहर के ओर्डशाल लेन में घूम रहे थे. वे इंग्लैंड में ही लैंकेस्टर विश्वविद्यालय में माइक्रो-इलेक्ट्रॉनिक्स में पोस्टग्रेजुयेशन कर रहे थे और क्रिसमस की शाम घूमने के लिये निकले थे.

अनुज बिदवे के साथ घूम रहे मित्रों के अनुसार सड़क पर घूमते समय दो श्वेत लोगों ने अचानक अनुज को रोक कर कुछ कहा और इससे पहले की कोई कुछ समझ पाता, उन्होंने उसे काफी पास से गोली मार दी. अनुज की घटनास्थल पर ही मौत हो गई.

अनुज की हत्या के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था. इन पांचों लोगों से पूछताछ के बाद कैरान स्टेपलेटोन को अनुज का हत्यारा मानते हुये मैनचेस्टर की अदालत में पेश किया गया था. वहां उसने अपने अपराध को लेकर कोई सफाई देने के बजाये अपना नाम- साइको स्टेपलेटोन बताते हुये हंसी उड़ाई थी. अब स्टेपलेटोन को 20 मार्च को अदालत में पेश किया जायेगा.

लैंकस्टर यूनिवर्सिटी के अनुसार यह फेलोशीप ऐसे विद्यार्थी को दी जाएगी, जिसने पुणे विश्वविद्यालय से पढ़ाई की हो. यानी बिदवे की स्मृति में दी जाने वाली यह फेलोशीप केवल भारतीय छात्रों को ही दी जाएगी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in