पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
महाराष्ट सरकार को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस
 पहला पन्ना > राज्य > महाराष्ट्र Print | Send to Friend 

महाराष्ट्र सरकार को सर्वोच्च न्यायालय का नोटिस

 

नई दिल्ली. 10 नवंबर 2008

 

उत्तर भारतियों पर हो रहे हमलों के मद्देनज़र सर्वोच्च न्यायालय ने महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी किया है. यह नोटिस प्रदेश में राज ठाकरे के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) द्वारा गैर मराठियों और उत्तर भारतियों के खिलाफ चलाए जा रही मुहिम पर रोक लगाने में सरकार की कथित नाकामी के चलते दिया गया.

यह नोटिस मुख्य न्यायाधीश के.जी.बालकृष्णन की अध्यक्षता वाली न्यायपीठ के द्वारा जारी किया गया है जो इस मुद्दे पर दायर दो जनहित याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी.

इनमें से एक के याचिकाकर्ता श्री सलेक चंद जैन के वकील सुग्रीव दुबे के अनुसार मनसे नेता राज ठाकरे के बयानों से भड़की भीड़ ने जब दो उत्तर भारतीय डॉक्टरों अजय और विजय दुबे की हत्या कर दी तब भी राज्य सरकार ने जरूरी कदम नहीं उठाए. उन्होंने यह भी कहा कि मनसे द्वारा किये गए हमलों पर देशभर में तीव्र प्रतिक्रियाएं हुईं जिससे देश की अखंडता और एकता पर खतरा पैदा हो गया है.

याचिका में उन्होंने केंद्र सरकार पर भी आरोप लगाया कि वो भी इन घटनाओं की मूक दर्शक बनी रही और संविधान की धारा 355 के तहत अपने अधिकारों का प्रयोग कर राज्य सरकार को इंस संवैधानिक संकट से निपटने के लिए जरूरी दिशा निर्देश नहीं दिये.

सोमवार को इस मुद्दे पर महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री श्री आर.आर.पाटिल ने कहा कि राज्य सरकार सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी नोटिस का जवाब देकर स्थिति का खुलासा करेगी.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in