पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

जारवा सफारी रोकने ब्रिटिश संसद में प्रस्ताव

जारवा सफारी रोकने ब्रिटिश संसद में प्रस्ताव

लंदन. 7 फरवरी 2012

जारवा आदिवासी


अंडमान निकोबार की जारवा लड़कियों को अर्धनग्न करके नचाने के मामले को ब्रिटेन के सांसदों ने अत्यंत गंभीरता से लिया है. इस मुद्दे पर जल्दी ही वहां सदन में एक प्रस्ताव पेश किया जाएगा.

इस प्रस्ताव में कहा गया है कि भारत सरकार उच्चतम न्यायालय के निर्देशों का पालन करते हुये उन अवैध सड़कों को बंद करे, जो जारवा जनजाति के रहवास वाले इलाके से गुजरती हैं. प्रस्ताव में चिंता जताते हुये कहा गया है कि भारत के अंडमान द्वीप समूह में सैलानी जारवा जनजाति के लोगों को इस तरह से इस्तेमाल कर रहे हैं, जैसे 'ह्यूमन सफारी पार्क' में आकर्षित करने वाली चीज़ों को किया जाता है.

ज्ञात रहे कि ब्रिटिश मीडिया में यह सनसनीखेज रहस्योद्घाटन किया गया था कि अंडमान की लुप्तप्राय जारवा आदिवासियों को थोड़े से पैसे और बिस्किट का लालच दे कर उन्हें लगभग अधनंगी हालत में नचाया जाता है. द ऑब्जार्वर और गार्जियन ने दावा किया था कि जिन पुलिस वालों को इन जारवा आदिवासियों को पर्यटकों से दूर रखने का जिम्मा दिया गया था, उन्हीं पुलिस वालों ने 15 हजार रुपये की रिश्वत लेकर विदेशी पर्यटकों को जारवा आदिवासियों से मिलवाया. इसके बाद पुलिस वाले ने पैसे और बिस्किट का लालच देकर जारवा लड़कियों को नाचने पर मजबूर किया.

पत्रकारों ने इस पूरे मामले की वीडियो की भी शूटिंग की. गार्जियन अखबार ने तो अपनी वेबसाइट पर एक ऐसी वीडियो जारी भी की थी, जिसमें पुलिसवाला जारवा लड़कियों को नंगे बदन नाचने के लिये प्रलोभन दे रहा था. इधर मीडिया में खबर आने के बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अंडमान निकोबार प्रशासन से रिपोर्ट मांगी और पूरे मामले की जांच के लिये एक कमेटी का भी गठन किया गया.

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष रामेश्वर उरांव के अनुसार अंडमान में आदिवासी कल्याण विभाग के सहायक निदेशक ने उन्हें जानकारी दी है कि जांच पूरी हो चुकी है. इस जांच से यह बात सामने आई है कि यह वीडियो साढ़े तीन साल पुराना था और इस तरह का कोई भी नया वीडियो नहीं बनाया गया है. लेकिन उरांव के इन्हीं दावों के बीच द आब्जर्बर अखबार ने जारवा आदिवासी लड़कियों को अधनंगी हालत में नचाने से जुड़े दो और वीडियो जारी किये हैं, जिनमें पुलिस वालों की संदिग्ध भूमिका साफ समझ में आती है. अखबार ने फिर दावा किया है कि ये सभी वीडियो हाल ही के हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in