पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > राष्ट्र > अर्थ-बेअर्थ Print | Send to Friend 

महंगाई दर में भारी गिरावट

महंगाई दर में भारी गिरावट

 

नई दिल्ली. 13 नवंबर 2008

 

देश में महंगाई दर भारी गिरावट के साथ पिछले इक्कीस हफ्तों के अपने न्यूनतम स्तर 8.98 प्रतिशत पर आ गई है. यह कमी आयातित खाद्य तेल, चाय, मसाले, इस्पात और हवाई इंधन की दामों में आई गिरावट के फलस्वरूप आई है.

इस कमी से महंगाई की मार झेल रहे लोगों को काफी राहत मिली है. छह नवंबर को खत्म हुए हफ्ते में ये दर 10.72 फीसदी थी. सरकार द्वारा जारी किये गए आँकडों के अनुसार पेट्रोलियम पर्दाथों और विद्युत क्षेत्र के थोक मूल्य सूंचकांक में 3.4 फीसदी, हवाई इंधन में 18 फीसदी, चाय में दो और मसालों में एक फीसदी की गिरावट दर्ज की गई.

इन सभी के प्रभाव से महंगाई दर में पिछले एक सप्ताह में 1.74 फीसदी की दर से कमी हुई. आर्थिक मामलों के विशेषज्ञों ने तेल और उर्जा की कीमतों में आई भारी गिरावट को इस कमी का प्रमुख जिम्मेदार माना है.

उल्लेखनीय है कि महंगाई दर इसी साल अगस्त के शुरुआती हफ्तों में 13 प्रतिशत के करीब थी जो कि 16 सालों में उसका उच्चतम स्तर था.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in