पहला पन्ना >राजनीति >आधी Print | Share This  

टॉपलेस यूक्रेनी औरतों को हो सकती है जेल

टॉपलेस यूक्रेनी औरतों को हो सकती है जेल

कीव. 18 फरवरी 2012

यूक्रेनी औरत फीमेन


कीव की कुछ महिलाओं को अधनंगा हो कर प्रदर्शन करने और भारतीय राष्ट्रध्वज को फाड़ना महंगा पड़ सकता है. यूक्रेन की सरकार फीमेन समूह से जुड़ी इन महिलाओं के खिलाफ कार्रवाई करने वाली है और इन महिलाओं को जेल की सजा हो सकती है.

गौरतलब है कि हाल ही में भारत सरकार ने यूक्रेन से भारत आने वाली 14 से 40 साल की उम्र की महिलाओं की सख्ती से जांच की बात कही थी. साथ ही इस उम्र की महिलाओं के भारत में प्रवेश पर रोक की भी बात कही गयी थी. भारत सरकार का कहना था कि बड़ी संख्या में इस उम्र की महिलाएं देह व्यापार करने के लिये भारत आ रही है. भारत सरकार के इस फैसले की यूक्रेन में बेहद आलोचना की दृष्टि से देखा जा रहा है. वहां की फीमेन नामक समूह भारत सरकार के इस फैसले के खिलाफ लगातार प्रदर्शन कर रहा है.

इसी सिलसिले में यूक्रेन के कीव स्थित भारतीय राजदूत के आवास पर फीमेन समूह की महिलाओं ने अर्धनग्न हो कर प्रदर्शन किया था. शून्य से चार डिग्री सेल्सियस कम तापमान में भी टॉपलेस होकर राजदूत के घर की गैलरी में खड़े होकर प्रदर्शन करने वाली इन महिलाओं ने भारतीय झंडे को फाड़ते हुये विरोध प्रदर्शन कर लिया था. महिलाओं ने हाथों में पोस्टर ले रखा था, जिसमें लिखा था कि यूक्रेन कोई वेश्यालय नहीं है.

महिलाओं का यह समूह भारतीय राजदूत के घर की गैलरी में घुस आया था और प्रदर्शनकारी पूरे यूक्रेन की महिलाओं को इस तरह अपमानित किये जाने से खफा थीं. कुछ प्रदर्शनकारियों ने अपने भाषण में भारत के सोनागाछी और जीबी रोड का उल्लेख करते हुये यह भी कहा कि भारत में यूक्रेन से किसी महिला को देह व्यापार के लिये जाने की जरुरत नहीं है. वहां यूक्रेन जीतनी आबादी ही देह व्यापार के पेशे में है.

बहरहाल अब यूक्रेन पुलिस ने फीमेन समूह के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी है. पुलिस का कहना है कि इस मामले में दोषी पाये जाने पर संबंधित महिलाओं को जेल भेजा जा सकता है.