पहला पन्ना > राज्य > चुनाव Print | Send to Friend 

छत्तीसगढ़ चुनाव | Chhattisgarh Election

न मतदाता पहुंचे, न मतदान दल

रायपुर. 14 नवंबर 2008


छत्तीसगढ़ में नक्सल प्रभावित इलाकों में कई जगहों पर एक भी वोट नहीं डाले जाने की खबर है. दोपहर 12 बजे तक कई मतदान केंद्रों में मतदान दल के सदस्य वोटरों की प्रतीक्षा में बैठे रहे. जबकि कई इलाके ऐसे हैं, जहां मतदान दल दोपहर तक नहीं पहुंचा.

ज्ञात रहे कि सुरक्षा के मद्देनजर चुनाव आयोग ने इन इलाकों में मतदान का समय सुबह 7 बजे से 3 बजे तक ही रखा
था. चुनाव आयोग ने नक्सल प्रभावित बस्तर में सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए हैं. मतदान दल को संबंधित इलाकों तक पहुंचाने के लिए वायुसेना के नौ हेलीकॉप्टर भी इस काम में लगाए गए हैं. लेकिन इसके बाद भी कई इलाकों में मतदान दल के नहीं पहुंच पाने की खबर है.

बीजापुर विधानसभा के मारुड़बाका और पुजारी कांकेर क्षेत्र में नक्सलियों का खौफ साफ नजर आ रहा है. इन इलाकों में दोपहर तक एक भी मतदाता के नहीं पहुंचने की खबर
थी. इसके ठीक उलट दुर्गकोंदल के मेराहु और जेसुखी में मतदानदल पहुंचा ही नहीं. इसी तरह ग्राम पीवी-2, पीवी-94 में भी मतदानदल का दोपहर तक अता पता नहीं था. ताकीलोड़ में भी मतदान दल नहीं पहुंच पाया.

हालांकि दंतेवाड़ा के किडरीरास में माओवादियों द्वारा अगवा किए गए मतदान दल के सदस्यों की रिहाई से प्रशासन ने राहत की सांस ली है लेकिन कई इलाकों में मतदान दल के सदस्यों से संपर्क नहीं होने के कारण प्रशासन चिंतित
रहा.

पहले चरण में 90 में से 39 सीटों पर मतदान ह
ुआ जबकि दूसरे चरण का मतदान 20 नवंबर को होगा.

पहले चरण में दुर्ग, कवर्धा, धमतरी, महासमुंद, राजनांदगाव के अलावा नक्सल प्रभावित कांकेर, जगदलपुर, नारायणपुर, दंतेवाड़ा और बीजापुर जिले में मतदान ह
ुए हैं. पहले चरण के मतदान में कुल 367 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं, जिनमें राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह राजनांदगांव से, विधानसभा अध्यक्ष प्रेम प्रकाश पांडे भिलाई से और नेता प्रतिपक्ष महेंद्र कर्मा, दंतेवाड़ा से चुनाव लड़ रहे हैं.