पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >सियासत Print | Share This  

शूटिंग में पाकिस्तानी झंडे पर विहिप का बवाल

शूटिंग में पाकिस्तानी झंडे पर विहिप का बवाल

चंडीगढ़. 3 मार्च 2012

कैथरीन बिगलो


कैथरीन बिगलो को ओसामा की जिंदगी पर बनाई जा रही फिल्म की शूटिंग में पाकिस्तानी झंडा लगाना भारी पड़ा. विश्व हिंदू परिषद के हुड़दंगियों ने फिल्म के सेट पर जम कर तोड़फोड़ मचाई और अंततः बिलगो जब इस बात के लिये तैयार हुईं कि शूटिंग में पाकिस्तानी झंडा इस्तेमाल नहीं किया जाएगा, तभी विश्व हिंदू परिषद के लोग शूटिंग के लिये तैयार हुये.

गौरतलब है आस्कर अवार्ड से सम्मानित अमरीकी फिल्मकार कैथरीन बिगलो इन दिनों ओसामा बिन लादेन पर बनाई जाने वाली फिल्म की शूटिंग पंजाब में कर रही हैं. इसके लिये मनीनाजरा में लाहौर शहर के सेट बनाया गया था. जाहिर है, पाकिस्तान का सेट था तो पाकिस्तानी झंडे भी लगाये गये थे. इसी बात पर विश्व हिंदू परिषद का दल भड़क गया. उनका तर्क था कि भारत में पाकिस्तानी झंडा क्यों लहराया जा रहा है. हालांकि विहिप के विरोधियों ने उन्हें यह समझाने की कोशिश की कि यह केवल शूटिंग है. लेकिन विहिप के कार्यकर्ता नहीं मानें और उन्होंने शूटिंग स्थल के अधिकांश बोर्ड उतार दिये.

बाद में मामला थाने तक जा पहुंचा और बिगलो ने शूटिंग जल्दी पूरी होने की गरज से इस बात को स्वीकार कर लिया कि वे पाकिस्तानी झंडे के बिना ही वहां शूटिंग करेंगी.

इससे पहले 2009 में ‘द हर्ट लॉकर’ फिल्म बना कर आस्कर अवार्ड पाने और पूरी दुनिया में अपने काम का डंका बजाने वाली कैथरीन बिगलो ने कहा था कि पाकिस्तान में जा कर शूटिंग करना उनके लिये मुश्किल था, इसलिये उन्होंने पंजाब को शूटिंग के लिये चुना. कैथरीन के अनुसार वे ओसामा बिन लादेन की जिंदगी पर फिल्म बनाने के लिये पिछले कई सालों से तैयारी कर रही थीं. उनकी फिल्म की कहानी के केंद्र में वो दस्ता था, जो ओसामा की तलाश में लगा हुआ था. लेकिन पिछले साल ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद उनकी फिल्म की पूरी कहानी ही बदल गई.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in