पहला पन्ना >राजनीति >उत्तराखंड Print | Share This  

उत्तराखंड में सस्पेंस

उत्तराखंड में सस्पेंस

देहरादून. 7 मार्च 2012

बीसी खंडूरी


पांच राज्यों में हुये विधानसभा चुनावों में जनता ने उत्तर प्रदेश में जहां समाजवादी पार्टी को पूर्ण बहुमत दिला कर सरकार बनाने का अवसर दिया है, वहीं मणिपुर में कांग्रेस को बहुमत मिला है. गोवा में भाजपा सरकार बनाएगी तो पंजाब में अकाली-भाजपा गठबंधन का झंडा लहराएगा. लेकिन असली मुश्किल उत्तराखंड में है, जहां 70 सदस्यों वाली विधानसभा में कांग्रेस को 32 और भाजपा को 31 सीटें मिली हैं. यहां बसपा को 3, उत्तराखंड क्रांति दल को 1 और अन्य को 3 जगहों पर विजयी घोषित किया गया है. लोग मुख्यमंत्री बीसी खंडूरी की हार से भी चकित हैं. हालांकि आरंभिक तौर पर कांग्रेस बसपा विधायकों के सहारे सरकार बनाने में जुटी हुई है और केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री हरीश रावत को राज्य में मुख्यमंत्री बनाने की बात लगभग तय हो चुकी है

117 सीटों वाली पंजाब विधानसभा में अकाली दल ने इतिहास रचते हुये 56 सीटों पर कब्जा जमाया है. उसकी सहयोगी पार्टी भाजपा ने 12 सीटों पर दूसरों को पछाड़ा. कांग्रेस पार्टी को कुल 46 सीटें मिली हैं और तीन सीटों पर अन्य उम्मीदवारों ने परचम लहराया है.

60 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा में 42 पर कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस ने 7, नगा पीपुल्स फ्रंट ने 4, जनशक्ति पार्टी और राकांपा को 1-1 सीट मिली है. अन्य उम्मीदवारों को 5 सीटें मिली हैं. इसी तरह 40 सीटों वाली गोवा में 21 पर भाजपा, 9 पर कांग्रेस और 3 पर महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी ने झंडा लहराया है. 7 सीटों पर अन्य उम्मीदवार विजयी हुए हैं.