पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >मध्यप्रदेश Print | Share This  

भाजपा विधायक का भी होगा पॉलीग्राफ टेस्ट

भाजपा विधायक का भी होगा पॉलीग्राफ टेस्ट

भोपाल. 10 मार्च 2012

शेहला मसूद


आरटीआई कार्यकर्ता शेहला मसूद हत्याकांड की आरोपी जाहिदा, सबा और साकिब अली डेंजर के बाद अब भाजपा विधायक और पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष ध्रुव नारायणसिंह का भी पॉलिग्राफ टेस्ट किया जाएगा. सीबीआई की विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट डॉ.शुभ्रा सिंह ने जांच एजेंसी को सिंह के पॉलीग्राफ टेस्ट की मंजूरी दी.

ज्ञात रहे कि 16 अगस्त 2011 को आरटीआई एक्टिविस्ट शेहला मसूद अपने घर के बाहर कार में मृत मिली थीं. वे उस समय अन्ना हजारे के आंदोलन के समर्थन में भोपाल में हो रहे आयोजन में भाग लेने जा रही थीं. पहले पुलिस ने मामले की जांच की और उसके नाकाम रहने के बाद मामले को सीबीआई के हवाले कर दिया गया. मसूद को हत्या से पहले धमकियां भी मिल रही थीं, जिसकी शिकायत उन्होंने पुलिस से की थी. इस मामले में मध्यप्रदेश सीबीआई ने आर्किटेक्ट जाहिदा परवेज, उनकी दोस्त सबा फारुकी और साकिब अली डेंजर को गिरफ्तार किया है.

सीबीआई का कहना है कि इस मामले में अब तक जो कहानी आई है, उसके अनुसार मुख्य आरोपी जाहिदा ने भाजपा विधायक धु्रवनाराण सिंह से शेहला की बढ़ती नजदीकियों की जलन की वजह से शाकिब अली डेंजर के जरिए हत्या की सुपारी दी और कानपुर से आए शूटर ने शहला की गोली मारकर हत्या कर दी. हत्या की सुपारी पांच लाख रूपए में तय हुई थी, लेकिन इसके बदले केवल तीन लाख रूपए दिए गए, शेष रकम को लेकर शाकिब द्वारा जाहिदा से लगातार मांग की जा रही थी.

इसके बाद जाहिदा ने शूटर शानू ओलंगा को भी 30 नवंबर को मरवा डाला. जिसके बाद शाकिब अली डेंजर ने सीबीआई के सामने जा कर आत्मसमर्पण कर दिया. हालांकि सीबीआई डेंजर की गिरफ्तारी का दावा करती रही है. सीबीआई का कहना है कि शेहला मसूद की हत्या के मामले में सीबीआई ने लगभग 9 लाख फोन कॉल डिटेल की जांच की.

सीबीआई ने मंगलवार को इंदौर की विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में तीन प्रमुख आरोपियों के पॉलीग्राफी टेस्ट का अनुरोध किया था, जहां सीबीआई की विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट डॉक्टर शुभ्रा सिंह ने पालीग्राफी टेस्ट की अनुमति दे दी थी. अब शुक्रवार को अदालत ने भाजपा विधायक ध्रुव नारायणसिंह के भी पॉलीग्राफी टेस्ट की अनुमति दे दी है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in