पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

छत्तीसगढ़ में एसपी ने की आत्महत्या

छत्तीसगढ़ में एसपी ने की आत्महत्या

बिलासपुर. 12 मार्च 2012

राहुल शर्मा


छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पदस्थापित आईपीएस अधिकारी राहुल शर्मा ने आज आत्महत्या कर ली. उनका शव सोमवार की दोपहर ऑफिसर्स मेस में पाया गया. पुलिस के अधिकारियों के अनुसार वे हाल ही में अवकाश से लौटे थे.

पुलिस सूत्रों के अनुसार ऑफिसर्स मेस में रह रहे राहुल शर्मा को सुबह उनके गनमैन ने नाश्ते के लिये पूछा तो उन्होंने बाद में नाश्ता करने के लिये कहा. दोपहर में भोजन के समय जब गनमैन उनके कमरे में पहुंचा तो उनका शव पड़ा हुआ था. आनन-फानन में उच्च अधिकारियों को सूचना दी गई. इसके बाद उनका शव छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान में पोस्टमॉर्टम के लिये ले जाया गया. पुलिस का कहना है कि उन्होंने अपने सर्विस रिवाल्वर से अपने सर में गोली मार ली.

राज्यपाल के विशेष कर्तव्यस्थ अधिकारी के रुप में काम कर चुके राहुल शर्मा ने नक्सल प्रभावित बस्तर में भी कुछ सालों तक अपनी सेवाएं दी थीं. इस साल 6 जनवरी को राहुल शर्मा का तबादला बिलासपुर में हुआ था.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Pravin Patel [tribalwelfare@gmail.com] Bilaspur - 2012-03-12 13:20:04

 
  This is not an ordinary incident that can be swept below the carpet. Roots are much deeper that has forced a brave IPS officer who has served in Naxal infested district of Dantewada can not be so coward that he can commit suicide. Can this be linked to the growing clout of coal and land mafia who have protection from the political masters? Nothing less than a CBI Inquiry can reach to the truth.  
   
 

kalpesh patel [ukpraigarh@yahoo.co.in] raigarh(chatisgarh) - 2012-03-12 12:57:35

 
  क्यों आये .क्यों गए ,क्या कमी थी,
क्या कसक थी,
दुनिया बहुत बड़ी थी ,
किसी इक के कारन दुनिया छोड़ी नहीं जाती,
किसी कारन से भी नहीं,
मिलन सार तुम,
जांबाज तुम,
किस्से डर गए,
किस्से नाराज हो गए ,
कुछ रुक जाते,
कुछ झुक जाते,
कुछ मना लेते ,
समय नहीं था जाने का ,
लोगो की अपेक्षा थी आपसे,
लोग जुड़े थे आपसे,
दो नन्हे भी थे आपके ,
नाराज होकर तुम नहीं गए,
हम तुमसे नाराज है,
क्यों हमें छोड गए,
क्यों मित्रों को छोड गए.
 
   
 

ritesh [riteshtikariha@gmail.com] durg - 2012-03-12 12:40:26

 
  गांधी तेरे देश में जाने क्या-क्या होए....  
   
 

Banshi lal parmar [parmar_photoes@rediffmail.com] Suwasra dis.Mandsour M.P. - 2012-03-12 11:59:08

 
  समझ में नहीं आ रहा कि आईपीएस के उपर इतना दबाव क्यों है? जब वे इन परिस्थितियों का मुकाबला नहीं कर पा रहे तो हम जैसे आम आदमी का क्या होगा? 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in