पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

मायावती के पास 112 करोड़ की माया

मायावती के पास 112 करोड़ की माया

नई दिल्ली. 14 मार्च 2012

मायावती


डाक विभाग के बाबू की बेटी और राजनीति में आने से पहले मामूली शिक्षक की नौकरी करने वाली बसपा सुप्रीमो मायावती के पास आज की तारीख में 112 करोड़ रुपये की संपत्ति है. पांच साल पहले तक उनके पास 52.27 करोड़ रुपये की संपत्ति थी. यानी पिछले पांच साल में ही उनके पास दुगनी संपत्ति हो गई है.

राज्यसभा में जाने के लिये मायावती ने जो फार्म भरा है, उसके अनुसार उनके पास आज की तारीख में 380 कैरेट्स हीरे, एक किलो सोना, 96 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति जिसमें 62 करोड़ रुपये की दिल्ली में दुकान व लखनऊ में 15 करोड़ रुपये का मकान, 20 किलो चांदी शामिल है.

गौरतलब है कि मई, 2010 में विधान परिषद चुनाव में नामांकन पत्र दाखिल करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपनी संपत्ति की कुल कीमत 88 करोड़ रुपये बताई थी. 2007 में विधान परिषद उपचुनाव में नामांकन दाखिल करते हुए उन्होंने अपनी कुल संपत्ति की कीमत का आकलन 52.27 करोड़ रुपये किया था.

मायावती ने नामांकन पत्र में जो ब्योरा दिया है, उसके अनुसार दिल्ली के सरदार पटेल मार्ग पर मौजूद बंगले की कीमत 61 करोड़ रुपये है. दिल्ली के ही कनॉट प्लेस में दो दुकानों की भी वे मालकिन हैं. वहीं, लखनऊ के मॉल एवेन्यू में एक बंगला है. मायावती के पास चांदी का एक डिनर सेट है, जिसकी कीमत 9 लाख रुपये है. 2010 में मायावती के पास कुल 87 करोड़ रुपये कीमत की संपत्ति थी.

राजनीति में पैसे और पैसों वालों की राजनीति का एक दिलचस्प नमूना पंजाब विधानसभा है. हाल में पंजाब विधानसभा के लिये हुये चुनाव में वहां 117 सदस्यों वाली विधानसभा में 101 सदस्य यानी 86 फीसदी विधायक करोड़पति हैं. 2007 के चुनाव में ऐसे विधायकों की संख्या 66 प्रतिशत थी. यानी 117 में से 77 विधायक ऐसे थे, जो करोड़पति के दायरे में थे. पंजाब के राजनीतिज्ञों ने साल 2012 के विधानसभा चुनावों में जो हलफनामे सौंपे हैं, उनसे पता चला है कि इस बार विधानसभा में 86 फीसदी करोड़पति विधायक चुनकर आए हैं, जबकि 2007 के विधानसभा चुनावों में 66 प्रतिशत केवल 77 करोड़पति विधायक चुने गए थे.

यह देखना भी दिलचस्प है कि दो दिन पहले ही एक अमरीकी मीडिया घराने ने बिजनेस इनसाइडर ने दावा किया है कि सोनिया गांधी दुनिया की चौंथी सबसे धनी व्यक्ति हैं. इस मीडिया घराने ने दुनिया के सर्वाधिक धनी लोगों की जो सूची जारी की है, उसमें सोनिया गांधी का नाम चौंथे नंबर पर होना राजनीतिक गलियारे में चर्चा का विषय बना हआ है. इस मीडिया घराने का दावा है कि उनके पास 10 से 45 हजार करोड़ रुपये तक की संपत्ति है. हालांकि इससे पहले जर्मनी के डी वेल्ट अखबार ने भी दुनिया के सर्वाधिक धनी नेताओं में जिन 23 लोगों को शामिल किया था, उसमें भी सोनिया गांधी को चौंथे नंबर की धनी राजनेता बताया गया था.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

amit sinh [amit_mairy@rediffmail.com] sultanpur (up) - 2012-03-14 16:04:45

 
  माया बहन तो अमीर होती जा रही हैं लेकिन प्रदेश के भाई लगाता गरीब होते जा रहे हैं. 
   
 

RAM SURESH SHUKLA [] ALLAHABAD - 2012-03-14 05:58:16

 
  As an Ex-Army soldier I feel a demarcation the property must be initiated and over and above assets and unauthorized money should declared as National asset. It will enhance the beauty of the Nation and a great lesson to the future politician. People should be volunteer for the service of the nation without taking or utilizing the government money for their personal use. Hope Mr. Akhilesh Yadav do the same for his regime of five years.Thanks to all who follow the same path of Honesty. Because honesty is the best POLICY. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in