पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

अखिलेश यादव सीएम और राजा भैया मंत्री

अखिलेश यादव सीएम और राजा भैया मंत्री

लखनऊ. 15 मार्च 2012

अखिलेश यादव


उत्तरप्रदेश के नये मुख्यमंत्री के तौर पर समाजवादी पार्टी अखिलेश यादव ने गुरुवार को शपथ ली. राज्यपाल बीएल जोशी ने उन्हें शपथ दिलाई. उनके साथ-साथ प्रतापपुर के कुख्यात राजा भैया को भी शपथ दियाई गई, जिसको लेकर राजधानी में आज चर्चा का दौर बना रहा. पंजाब के मुख्यडमंत्री प्रकाश सिंह बादल, उद्योगपति अनिल अंबानी, स्वाहमी प्रसाद मौर्य, एबी वर्धन, प्रकाश करात, सुब्रत रॉय सहारा, फिल्म अभिनेत्री जया बच्चजन जैसे कई दिग्गज इस शपथ ग्रहण समारोह में शामिल हुये. शपथ ग्रहण का कार्यक्रम लामार्टीनियर कॉलेज मैदान में संपन्न हुआ.

अखिलेश के अलावा कुल 19 कैबिनेट स्तर के मंत्री पद के लिये जिन विधायकों ने शपथ लिया, जिसमें आजम खान, शिवपाल यादव, अहमद हसन, वकार अहमद, राजा महेन्द्र सिंह, आनंद सिंह, अंबिका चौधरी, राजा भैया, बलराम यादव, अवधेश प्रसाद, ओमप्रकाश सिंह, पारसनाथ यादव, रामगोविंद, दुर्गा यादव, बी एस त्रिपाठी, कामेश्वर उपाध्याय, राजाराम पाण्डे, राजकिशोर सिंह, शिवकुमार बेरिया शामिल हैं.

कई मामलों में आरोपी और प्रतापगढ़ में कुंडा से विधायक कुख्यात रहे राजा भैया हालांकि पहले भी मुलायम सिंह की सरकार में मंत्री रह चुके हैं लेकिन एक बार फिर उनका मंत्रीमंडल में शामिल होने को लेकर राजनीतिक गलियारे में चर्चा होती रही. अखिलेश के मंत्रीमंडल में राजा भैया ने ऐसे दौर में शपथ ली है, जब डीपी यादव जैसे बाहुबली को लेकर अखिलेश और उनके पिता मुलायम सिंह यादव ने हाय-तौबा मचा दी थी. यहां तक कि वरिष्ठ समाजवादी नेता मोहन सिंह को इसी कारण से अखिलेश यादव ने पार्टी प्रवक्ता के पद से हटा दिया था. अब डीपी यादव से कहीं अधिक बड़े बाहुबली के साथ अखिलेश की गलबहियां के कई अर्थ निकाले जा रहे हैं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

ashok singh chauhan [ashoksing121@gmail.com] shahajahanpur - 2012-05-19 12:49:46

 
  भाई, ये राजा भाई हैं, इनकी बात और है, मेरी तो राय ये है कि इनको सभी ठाकुर वोट को अपनी तरफ करना चाहिये. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in