पहला पन्ना >राजनीति >झारखंड Print | Share This  

भाजपा की पोल खोल दूंगा-अंशुमान मिश्रा

भाजपा की पोल खोल दूंगा-अंशुमान मिश्रा

नई दिल्ली. 24 मार्च 2012

अंशुमान मिश्रा


झारखंड में भाजपा के कोटे से राज्यसभा चुनाव से अपना नाम वापस लेने वाले एनआरआई अंशुमान मिश्रा के आरोपों से सकते में आई भाजपा ने कहा है कि पार्टी अंशुमान के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रही है. भाजपा ने कहा कि अंशुमान को राज्यसभा चुनाव में समर्थन नहीं दिया गया, इसलिए बयानबाजी कर रहे हैं. जरूरत समझी गई तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है.

इधर अंशुमान मिश्रा ने भाजपा के इस बयान पर पलटवार करते हुये कहा है कि जितना कानून अरुण जेटली जानते हैं, उतना ही कानून मैं भी जानता हूं. मिश्र ने कहा कि अरुण जेटली लंदन में मेरे यहां आते हैं. साथ मैच देखते हैं. उनके कई ऐसे लोगों से संबंध हैं जिन पर घोटालों के आरोप लग चुके हैं. अंशुमान मिश्रा ने कहा कि चूंकि मैं पढ़ा लिखा युवा हूं, मेरे पास चार पैसे हैं इसलिए कई लोग मेरे राजनीति में आने से डरते हैं. लोग मेरे खिलाफ मीडिया में कैंपेन चलवा रहे हैं. मैं स्वच्छ राजनीति करना चाहता हूं.

अंशुमान ने दावा करते हुए कहा कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने उन्हें उत्तर प्रदेश से राज्यसभा भेजने की पेशकश की थी. लेकिन उन्होंने कहा चूंकि यहां राज्यसभा की एक ही सीट पर जीता जा सकता है, इसलिए उन्होंने झारखंड का चुनाव किया.

गौरतलब है कि भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के जबर्दस्त विरोध के बाद राज्यसभा चुनाव में झारखंड से बतौर निर्दलीय प्रत्याशी अंशुमान मिश्रा अपना नाम वापस ले चुके हैं. उनके नाम का प्रस्ताव रघुवर दास, उमाशंकर अकेला, अमित यादव, सत्यानंद बाटुल, बिमला प्रधान, सुधा चौधरी, चंद्रप्रकाश चौधरी, उमाकांत रजक, हरेकृष्ण सिंह ने किया था.

इसके बाद अंशुमान मिश्रा ने भाजपा नेता मुरली मनोहर जोशी, अरुण जेटली और यशवंत सिन्हा जैसे नेताओं की तीखी आलोचना करते हुए चेतावनी दी है कि वह सबकी पोल खोल देंगे.

अंशुमान ने एक चैनल से बात करते हुये कहा कि मुरली मनोहर जोशी ने 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले के आरोपियों विनोद गोयनका और शाहिद बलवा से मेरी मौजूदगी में मुलाकात की थी और पार्टी को फंड देने को कहा था. अंशुमान ने कहा कि जोशी ने निजी हित के लिए नहीं बल्कि पार्टी के लिए फंड मांगा था. 2 जी स्पेक्ट्रम की जांच कर रही लोकलेखा समिति के अध्यक्ष जोशी विनोद गोयनका और शाहिद बलवा के दोस्त हैं.

अंशुमान मिश्रा का दावा है कि मुरली मनोहर जोशी ने उनसे कहा था कि मैं पूरे मामले को समझना चाहता हूं, इसलिए 2 जी स्पेक्ट्रम घोटाले के कुछ आरोपियों से मिलना चाहता हूं. मिश्रा के अनुसार विनोद गोयनका और शाहिद बलवा 2000 से 2012 तक भाजपा को सहयोग करते रहे हैं. मिश्रा ने यह भी कहा कि उन्होंने अपने मित्रों से भी भाजपा को फंड दिलवाया है और खुद भी ऐसा किया है. मिश्रा का दावा है कि विनोद गोयनका, कुमार मंगलम बिड़ला, अब्दुल कलाम उनके दोस्त हैं.

भाजपा के राज्यसभा सदस्य तरुण विजय ने कहा कि अंशुमान मिश्र के आरोप आधारहीन हैं. पीएसी की छवि खराब करने के लिए ये आरोप लगाए गए हैं. वास्तव में, 2जी घोटाला मामले को भाजपा ने सबसे पहले उठाया और पार्टी की वजह से पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए. राजा जेल में हैं.