पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

चिट्ठी लीक की जांच आईबी के हवाले

चिट्ठी लीक की जांच आईबी के हवाले

नई दिल्ली. 29 मार्च 2012

वी के सिंह


सेना प्रमुख जनरल वी के सिंह की पीएम को लिखी चिट्ठी लीक होने के मामले की जांच सीबीआई करेगी. रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने कहा कि चिट्ठी लीक होना राष्ट्रद्रोह का मामला है और जो भी दोषी हो, उसे बख्शा नहीं जाएगा.

देश के रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने कहा कि सीबीआई की सिफारिश पर हमने 6 कंपनियों को ब्लैकलिस्ट किया है. ब्लैकलिस्ट होने वाली कंपनियों में 2 भारतीय और 4 विदेशी कंपनियां शामिल हैं. जनरल वी के सिंह की चिट्ठी को लेकर एंटनी ने कहा कि जिसने भी प्रधानमंत्री को लिखी गई आर्मी चीफ की चिट्ठी लीक की है, वह राष्ट्रद्रोही है. कोई भी राष्ट्रभक्त ऐसा नहीं कर सकता है.

रक्षा मंत्री ने कहा कि हमने इंटेलिजेंस ब्यूरो से लीक की जांच करने के लिए कहा है और रिपोर्ट मिलने के बाद जिम्मेदार शख्स के खिलाफ हमारे कानून के तहत सबसे कठोर कार्रवाई की जाएगी.

इधर तृणमूल सांसद अंबिका बनर्जी ने जनरल का पक्ष लेते हुए कहा कि उन्‍हें विश्‍वसनीय सूत्रों से सेना के लिए होने वाली खरीद में गड़बड़ी की जानकारी मिली थी. उन्‍होंने कहा कि जनरल वीके सिंह एक ईमानदार व्‍यक्ति हैं. हम चाहते हैं कि रक्षा खरीद मामले की सीबीआई जांच हो. रक्षा खरीद में करोड़ों का घोटाला होता है. चाहे वो सेना के लिए हो या किसी अन्‍य अंग के लिए. मैंने अपनी चिट्ठी में ले. जन. दलबीर सिंह का नाम लिया क्‍योंकि उस वक्‍त वो रक्षा खरीद के प्रभारी थे.