पहला पन्ना >राजनीति >बिहार Print | Share This  

नक्सलियों ने किया वनकर्मी का अपहरण?

नक्सलियों ने किया वनकर्मी का अपहरण?

पटना. 6 अप्रैल 2012

नक्सलियों


ओडीशा में विधायक और दो इतालवी नागरिकों का मसला सुलझा भी नहीं है कि बिहार में एक वनकर्मी के अपहरण में माओवादियों का हाथ होने की आशंका ने सरकार की नींद उड़ा दी है. सरकारी अमले में इस बात को लेकर हड़कंप मचा हुआ है कि अगर वनकर्मी के अपहरण में नक्सलियों का हाथ हुआ और नक्सलियों ने मांग रख दी तो सरकार को क्या कुछ करना पड़ेगा.

राज्य के नक्सल प्रभावित जमुई जिले के एक गांव में सरकारी काम करवा रहा एक वनकर्मी पिछले 3 दिनों से लापता है. बटिया गांव में स्थित वन विभाग के वनकर्मी के विभाग का कहना है कि सोनो थाना के अमझरी-पेलम्बा गांव में वनकर्मी नरेश सिंह को गड्ढा खुदवाने का जिम्मा दिया गया था. नरेश सिंह वहां जेसीबी से गढ्ढा खुदवा रहे थे, जहां से वे लापता हैं. उनके साथ काम कर रहे दो अन्य सहयोगी और जेसीबी चालक भी लापता है. जेसीबी मशीन का भी कहीं पता नहीं चल सका है.

सोनो इलाके के थाना प्रभारी रामवतार पासवान का कहना है कि नरेश सिंह के बेटे ने अपने पिता के अपहरण की आशंका जताई है. हालांकि जेसीबी मशीन के चालक और उसके दो अन्य कर्मियों के लापता होने के बारे में मशीन के मालिक ने पुलिस को कोई लिखित शिकायत नहीं दी है.

उझंडी गांव निवासी नरेश सिंह के बेटे का कहना है कि उसके पिता को नक्सली अपह्रत कर सकते हैं. जिले के आला अधिकारियों का कहना है कि पूरे मामले की जांच की जा रही है और अगर मामला नक्सलियों से जुड़ा हुआ होगा तो भी सरकार अपनी तरफ से अपह्रतों को छुड़वाने के लिये हरसंभव कोशिश करेगी.