पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

कसाब के खाने पर रोज 29 रुपये खर्च

कसाब के खाने पर रोज 29 रुपये खर्च

मुंबई. 12 अप्रैल 2012

अजमल कसाब


26 नवंबर 2008 को मुंबई पर हमला करने वाले मोहम्मद अजमल कसाब को बिरयानी और मुर्ग मसल्लम खिलाने का आरोप लगाने वालों को शायद इस बात पर गहरा झटका लग सकता है कि सरकार ने कसाब के खाने-पीने पर हर दिन 30 रुपये से भी कम खर्च किया है. हिसाब निकाला जाये तो कसाब के नाश्ता-खाना और चाय पर हर दिन जो पैसा खर्च हुआ है, वह 29 रुपये 39 पैसे के आसपास ठहरता है.

महाराष्ट्र के गृह मंत्री आर.आर. पाटिल ने विधान परिषद में अजमल कसाब पर हुये खर्च का ब्यौरा देते हुये कहा कि उसकी गिरफ्तारी से लेकर 29 फरवरी 2012 तक उसके खाने-पीने पर 34 हजार 975 रुपये खर्च कर चुकी है. तीन साल, तीन महीने और तीन दिन यानी कुल जमा 1190 दिनों में कसाब पर हुआ यह खर्चा हर रोज 30 रुपये से कम है.

इसके अलावा कसाब के स्वास्थ्य पर 28,066 रुपये खर्च किये गये हैं. इसी तरह उसे मुंबई के जिस ऑर्थर रोड जेल में रखा गया है, उसे बम व बुलेट प्रूफ बनाने पर करीब 5 करोड़ 25 लाख रुपये खर्च हुए हैं. कसाब की सुरक्षा के लिये जिन लोगों की ड्यूटी लगायी गई, उनके वेतन-भत्ते पर 1,22,18,406 रुपये सरकार खर्च कर चुकी है.

इन सबके अलावा भारत-तिब्बत सीमा पुलिस पर माहाराष्ट्र सरकार ने 19 करोड़ 28 लाख रुपये का खर्च किया है, जिन्हें कसाब की निगरानी का जिम्मा सौंपा गया है. हालांकि पाटिल ने इस खर्च को लेकर केंद्र सरकार को पत्र लिख कर कहा है कि कसाब ने जो हमला किया था, वह देश पर किया गया हमला है. इस लिहाज से कम से कम भारत-तिब्बत सीमा पुलिस पर होने वाला खर्च केंद्र सरकार माफ करे.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Jigs [] Gujarat - 2016-07-05 18:05:42

 
  Agar yahi 50 carore kissano k liye kharch kiye hote to aaj kisaano ko sucide nai krna padta ....Humara desh dusro ki seva me hi pada h khud ka bacha kya khake sota h ye koi nai jan na chahta.. 
   
 

deepak sharma [ds3949158@gmail.cim] Bharatpur Rajasthan - 2014-09-12 17:15:03

 
  भारत सरकार केवल आतंकियों की सेक्यूरिटी करने और उन पर रुपए खर्च कर सकती है. आम आदमी कुएं में गिरे या भाड़ में जाए इस से भारत सरकार को कोई फर्क नहीं पड़ता. जो व्यक्ति एनजी को द्वारा सरकारी जॉब में हैं उन्हें भी उनके जॉब से हटा रही है. 
   
 

Amit [kammiiitt@gmail.com] Agra - 2014-04-20 21:18:33

 
  मोदी जी इस 50 करोड़ के सरकार के खर्चे पर क्या प्रतिक्रिया देंगे मैं ये जानना चाहता हूं और अगर मोदी जी होम मिनिस्टर होते केंद्र सरकार में होते तो क्या मोदी जी आप क्या करते. आप भी 50 करोड़ खर्च करते कसाब की सेक्यूरिटी पर? 
   
 

lalit chaturvedi [chaturvedil84@yahoo.com] ahmedabad - 2013-03-02 22:50:56

 
  जितना खर्च कसाब पर किया अगर इतना ही खर्च देश के गरीब नागरिकों पर किया होता तो देश में से ज्यादा नहीं पर 5% गरीबी तो दूर हो गई होती. 
   
 

s-s-yadav [] Lucknow - 2012-04-12 05:48:02

 
  इन सबकी जानकारी जनता को देकर सरकार ने जो पारदर्शिता दिखाई है वो स्वागत योग्य है. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in