पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >राजस्थान Print | Share This  

डायन बता महिला को सलाखों से दागा

डायन बता महिला को सलाखों से दागा

जयपुर. 13 अप्रैल 2012

महिला


राजस्थान में एक महिला को डायन बता कर उसे बांध दिया गया और फिर उसके कपड़े उतार कर उसे गर्म सलाखों से दागा गया. मामला सामने आने के बाद अदालत ने दोषियों पर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है लेकिन पुलिस-प्रशासन किसी भी तरह मामले को छुपाने में लगा हुआ है.

सूत्रों के अनुसार मामला उनियारा के बनेठा थाने का है, जहां प्रताड़ित महिला सुबह-सुबह हैंडपंप पर पानी भर रही थी. आरोप है कि माली जाति की इस महिला को रूपनारायण, हरिनारायण, छोटकी पत्नी रूपनारायण, पप्पूड़ी पुत्री सुखदेव, धूली पत्नी सुखदेव व सुखदेव ने हैंडपंप पर यह कहते हुये गाली-गलौच की कि तुम्हारे कारण हमारी भैंस मर गई है. आरोपियों ने उस महिला को कहा कि वह तंत्र विद्या जानती है और वह डायन है. आरोपियों ने अपनी परेशानियों के लिये उसे कारण बताते हुये उससे 50 हजार रुपये की भी मांग की.

महिला ने जब इसका प्रतिवाद किया तो आरोपियों ने महिला को घसीटा और उसे अपने घर ले आये, जहां उसे घर में खंभ्भे से बांध दिया गया. इसके बाद आरोपियों ने महिला के कपड़े उतार दिये और फिर उसे गुप्तांग समेत शरीर के अलग-अलग हिस्सों में गर्म सलाखों से दागना शुरु कर दिया. महिला ने आरोपियों से जान की भीख मांगी लेकिन आरोपी नहीं माने. बाद में गांव के कुछ लोगों ने हस्तक्षेप कर महिला को बचाया.

इस मामले में जब पीड़िता अपने परिजनों के साथ थाने में पहुंची तो पहले तो पुलिस ने पीड़िता को थाने से ही भगा दिया लेकिन जब मामला आगे बढ़ा तो आरोपियों को शांतिभंग की धारा में गिरफ्तार करके मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की. इसके बाद पीड़िता मामले को स्थानीय अदालत में ले गई, जिस पर अदालत ने आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने और पूरे मामले की जांच के निर्देश पुलिस को दिये हैं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

aaaa [] bilaspur - 2012-04-13 06:56:36

 
  औरत रूप में जन्म लेना ही बुरा है.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in