पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

अलेक्स की रिहाई के लिये पत्नी ने की अपील

अलेक्स की रिहाई के लिये पत्नी ने की अपील

रायपुर. 22 अप्रैल 2012

अलेक्स मेनन और आशा अलेक्स

 

नक्सलियों द्वारा अपह्रत सुकमा के कलेक्टर अलेक्स पॉल मेनन की पत्नी आशा अलेक्स ने नक्सलियों से अपने पति को रिहा करने की अपील की है. आशा अलेक्स ने कहा है कि उनके पति एक सामान्य परिवार से आते हैं और उन्होंने हमेशा गरीबों के हक की ही लड़ाई लड़ी है.

गौरतलब है कि शनिवार शाम करीब साढ़े 4 बजे छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के केरलापाल के मांझीपारा में ग्राम सुराज शिविर लगा था. बताया गया कि पहले से कुछ नक्सली ग्रामीण वेशभूषा में वहां मौजूद थे. कलेक्टर शिविर में बैठे हुए थे तभी एक ग्रामीण वहां पहुंचा और मांझीपारा में किसी काम दिखाने की बात उन्हें कही. जिस पर कलेक्टर अपनी स्कार्पियों में कुछ ही दूर निकले थे तभी 10 से 15 नक्सली मोटर साइकिल में उनकी वाहन को घेर लिया और पूछा कलेक्टर कौन हैं. दूसरे नक्सलियों ने उनके दो गनमैन को गोली मार दी और कलेक्टर को मोटरसाइकिल में बिठाकर ले गए.

कलेक्टर के अपहरण के दूसरे दिन भी अब तक उनका सुराग नहीं मिल पाया है. छत्तीसगढ़ के साथ-साथ ओडीशा और आंध्र प्रदेश में भी कलेक्टर की तलाश चल रही है. इधर राज्य के मुख्यमंत्री और आला अधिकारी लगातार केंद्र सरकार के संपर्क में हैं. केंद्र सरकार ने भी यथासंभव इस मामले में राज्य को सभी तरह से मदद पहुंचाने की बात कही है.

अगवा कलेक्टर अलेक्स पॉल मेनन की पत्नी आशा अलेक्स ने नक्सलियों से अपने पति की रिहाई की अपील की है. आशा ने कहा है कि उनके पति का स्वास्थ खराब रहता है, ऐसे में दवा के बिना अनहोनी हो सकती है. आशा अलेक्स ने कहा कि उनके पति एक साधारण परिवार से आते हैं और शासकीय सेवा में आने के बाद से ही वे गरीबों के हक की लड़ाई लड़ते रहे हैं. आशा अलेक्स ने कहा कि उनके पति अलेक्स पॉल मेनन ने सुकमा के आदिवासियों के लाभ के लिये कई जरुरी योजनाओं को भी शुरु किया है. ऐसे में उनके अपहरण से विकास की प्रक्रिया को भी धक्का लगा है.