पहला पन्ना >व्यापार >कृषि Print | Share This  

चाय होगा भारत का राष्ट्रीय पेय

चाय होगा भारत का राष्ट्रीय पेय

गुवाहाटी. 22 अप्रैल 2012

चाय पत्ती

 

चाय भले चीन से भारत में आई हो लेकिन भारत सरकार अब चाय को राष्ट्रीय पेय घोषित करने वाली है. मठा, लस्सी, नीबू पानी और दूसरे तमाम तरह के पेय पदार्थ को दरकिनार करके अगले साल 17 अप्रैल को चाय को भारत का राष्ट्रीय पेय घोषित कर दिया जायेगा.

32 रुपये में एक परिवार का गुजारा करने का दावा करने वाले योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने यह घोषणा की है. असम के जोरहट में असम टी प्लांटर्स एसोसिएशन की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम में मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने कहा कि आगमी 17 अप्रेल को चाय को राष्ट्रीय पेय घोषित किया जाएगा. इसी दिन असम में चाय उगाने वाले पहले भारतीय और 1857 के विद्रोह के नायक मनीराम दीवान का जन्मदिन भी है.

मोंटेक सिंह अहलुवालिया ने कहा कि चाय के महत्त्व का दूसरा महत्वपूर्ण कारण यह है कि यहाँ काम करने वाली श्रमिकों में आधी महिलाएं हैं और चाय उद्योग संगठित क्षेत्र में सबसे बड़ा रोज़गार दाता है. सबसे अधिक चाय का उत्पादन और इसकी खपत भारत में ही है.