पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > अंतराष्ट्रीय Print | Send to Friend 

तुर्की कवि नाज़िम हिक़मत को तुर्की ने स्वीकारा

तुर्की कवि नाज़िम हिक़मत को तुर्की ने स्वीकारा

06 जनवरी. अंकारा


तुर्की की सरकार ने निर्णय लिया है कि विश्व-प्रसिद्ध तुर्की कवि नाज़िम हिक़मत को फिर से तुर्की की नागरिकता लौटा दी जाएगी और उन्हें तुर्की का नागरिक कहा जा सकेगा. कम्युनिस्ट विचारधारा का होने के कारण 1951 में नाज़िम हिक़मत से उनकी तुर्की की नागरिकता छीन ली गई थी और उन्हें जेल में ठूँस दिया गया था. नाज़िम हिक़मत की कविताएँ दुनिया की दो सौ से अधिक भाषाओं में अनूदित हैं. वर्ष तक तुर्की की जेलों में सड़ने के बाद नाज़िम हिक़मत अन्ततः वहाँ से भाग निकले और समुद्र के रास्ते रूस पहुँचे. मास्को में उन्होंने एक रूसी फ़िल्मकार वेरा से विवाह कर लिया और वहीं रहने लगे. 1963 में मास्को में ही उनका देहान्त हो गया.


तुर्की सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि जिस अपराध के कारण उस समय नाज़िम की नागरिकता वापिस ली गई थी, उसे आज तुर्की में अपराध नहीं माना जाता इसलिए सरकार ने उनकी नागरिकता लौटाने का फ़ैसला किया है. तुर्की की सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि यदि नाज़िम हिक़मत के संबंधी चाहें तो नाज़िम के अवशेषों को तुर्की वापिस ला सकते हैं. नाज़िम हिक़मत मास्को में नोवोदेविच कब्रिस्तान में दफ़्न हैं.

हिन्दी में नाज़िम हिक़मत की कविताओं का अनुवाद सबसे पहले 1951-52 में कवि चंद्रबली सिंह ने किये थे और एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित कराए थे. उसके बाद कवि सोमदत्त ने 1981 में नाज़िम हिक़मत की बहुत सारी कविताओं का एक संग्रह प्रकाशित कराया.


उनके बाद अनिल जनविजय ने उनकी ढेर सारी कविताओं का अनुवाद और उनकी पत्नी वेरा हिक़मत का इन्टरव्यू विपक्ष नामक पत्रिका में छपवाए. तब से अब तक भारत की लगभग सभी मुख्य भाषाओं में उनकी रचनाओं के अनुवाद और पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

bahadur patel (bahadur.patel@gmail.com) dewas

 
 भाई वाह! बहुत अच्छी खबर है. 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in