पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

नार्वे से लौटेंगे भारतीय बच्चे

नार्वे से लौटेंगे भारतीय बच्चे

ओस्लो. 23 अप्रैल 2012 बीबीसी

नार्वे भारतीय बच्चे

 

नॉर्वे की अदालत ने महीनों की कानूनी और कूटनीतिक खींचतान के बाद भारतीय मूल के दो बच्चों को उनके चाचा को सौंपने का आदेश दिया है. बच्चों के पिता अनुरूप भट्टाचार्य ने बीबीसी से बातचीत में कहा " बच्चे मुझे नहीं मेरे भाई को मिल रहे हैं. कल अदालती कार्रवाई को समाप्त करने के बाद बच्चे मेरे भाई को सौंप दिये जाएंगे."

इन बच्चों को 28 फरवरी को नौर्वे की बाल कल्याण संस्था ने उनके भारतीय मूल के माता पिता से ले लिया था. नॉर्वे की बाल कल्याण संस्था के अनुसार इन बच्चों के माता पिता इन्हें ठीक ढंग से नहीं रख रहे थे.

मार्च में मीडिया में हंगामे के बाद किसी तरह से इन बच्चों को बाहर लाने की बात अंजाम पर पहुँचती दिख ही रही थी. लेकिन फिर इन बच्चों के माता पिता के बीच कथित तौर पर खराब दाम्पत्य संबंधों की खबर सामने आ गई. इसके बाद नॉर्वे की बाल कल्याण सेवा (सीडब्लूएस) ने बच्चों को उनके चाचा को भी सौंपने से इनकार कर दिया था. संस्था का कहना था कि ऐसा उसने बच्चों के परिवार में घरेलू विवाद को देख कर किया है. स्थानीय बाल कल्याण अधिकारियों का कहना था कि भारतीय बच्चों के माता पिता उनका अच्छा ख्याल नहीं रख रहे थे. बच्चों के माता पिता, अनुरूप और सागरिका भट्टाचार्य इस आरोप से इनकार करते रहे हैं.

जब बाल कल्याण सेवा ने बच्चों को लिया था, तब माता पिता ने कहा था कि नॉर्वे को बच्चों से ज्यादती होती इसलिए लग रही है क्योंकि भारत और नॉर्वे के बीच "सांस्कृतिक अंतर" है. तीन साल के अभिज्ञान और एक साल की ऐश्वर्य को नॉर्वे के बच्चों की देखरेख करने वाली एक संस्था में भेज दिया गया था. नॉर्वे की बाल कल्याण संस्था को लगता था कि बच्चे अपने मां-बाप के पास खतरे में है. ये मामला भारत और नॉर्वे के बीच कूटनयिक विवाद बन गया था जिसमें भारत की मांग थी कि बच्चों को अपने देश की संस्कृति और माहौल में पलने-बढ़ने का मौका दिया जाना चाहिए.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in