पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अंतराष्ट्रीय >पाकिस्तान Print | Share This  

लादेन का परिवार पाकिस्तान से निर्वासित

लादेन का परिवार पाकिस्तान से निर्वासित

इस्लामाबाद. 27 अप्रैल 2012 बीबीसी

osama bin laden


पाकिस्तानी अधिकारियों का कहना है कि ओसामा बिन लादेन की तीन विधवाओं और बच्चों को पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद से सऊदी अरब भेज दिया गया है. माना जाता है कि उनके कुल 11 बच्चे हैं.

 

तीनों विधवाओं और बच्चों को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच एक मिनी बस में इस्लमाबाद स्थित बंगले से अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे भेजा गया जहाँ एक विशेष विमान उनका इंतजार कर रहा था.

ओसामा बिन लादेन को पिछले साल दो मई को उत्तर पश्चिमी पाकिस्तान के शहर ऐबटाबाद में अमरीकी फ़ौज की एक कार्रवाई में मार दिया गया था. अमरीकी कार्रवाई के बाद ओसामा बिन लादेन की विधवाओं और बच्चों को पाकिस्तानी प्रशासन ने हिरासत में ले लिया था.

ओसामा बिन लादेन की पत्नियों और दो बड़े बच्चों के खिलाफ प्रशासन ने अवैध रुप से पाकिस्तान में रहने का मामला दर्ज किया था. इस मामले में अदालत ने उन्हें 45 दिनों की कैद की सजा सुनाई थी. इसके अलावा उन्हें पाकिस्तान से निर्वासित किए जाने की सजा भी सुनाई गई थी.

ओसामा की तीनों विधवाओं और बच्चों को इस्लामाबाद में ही एक बंगले में रखा गया था. अधिकारियों ने इसे उप-जेल का रुप दे दिया था. पिछले हफ़्ते ही इनकी कैद की सजा पूरी हुई है.

पाकिस्तान के गृहमंत्रालय ने एक बयान में कहा है, "अदालत के फैसले के मुताबिक ओसामा बिन लादेन के परिवार के 14 सदस्यों को निर्वासित किया जा रहा है." बयान में कहा गया है, "उन्हें एक बंगले में सुरक्षित ढंग से रखा गया था और अब उन्हें उनके पसंद के आधार पर सऊदी अरब निर्वासित किया जा रहा है."


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in