पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >समाज Print | Share This  

मोटी ऐश्वर्या और कुपोषित बच्चे

मोटी ऐश्वर्या और कुपोषित बच्चे

नई दिल्ली. 3 मई 2012

ऐश्वर्या राय


भारतीय मीडिया इन दिनों फिल्म अभिनेत्री ऐश्वर्या राय के वजन से परेशान है. ऐश्वर्या की वजन कितना बढ़ गया या ऐश्वर्या के मोटे हो जाने से उनके लुक पर कितना फर्क पड़ा है, इस पर विषय विशेषज्ञ अपना ज्ञान छौंक-बघार रहे हैं. कहा जा रहा है कि मुकेश अंबानी की पार्टी में जब ऐश्वर्या राय पहुंची तभी पहली बार लोगों ने गौर किया है कि मां बनने के बाद ऐश्वर्या पर मोटापा चढ़ गया है.

ऐश्वर्या राय के वजन बढ़ने और उनके मोटे हो जाने की चर्चा ऐसे दौर में हो रही है, जब कई अंतर्राष्ट्रीय संगठनों का दावा है कि भारत में 42 फीसदी बच्चे कुपोषित हैं. पिछले सात साल में 100 ज़िलों के सर्वे में यह भी स्पष्ट हुआ है कि हर पांच में से एक बच्चा ही अपनी उम्र के लिहाज़ से स्वस्थ और ज़रूरी वज़न की सीमा पार कर पाया है. यानी हर चौंथे बच्चे की हालत खराब है. एक दूसरा सर्वेक्षण इससे कहीं आगे बढ़ कर दावा करता है कि भारत की हालत कुपोषित बच्चों के मामले में बेहद खराब है.

यूनिसेफ का दावा है कि विकसित देशों में 15 करोड़ बच्चे कुपोषण का शिकार हैं और दक्षिण एशिया में करीब 78 मिलियन बच्चे कुपोषित हैं. यूनिसेफ के दावों पर यकीन करें तो भारत में तीन साल से कम उम्र का हर दूसरा बच्चा कुपोषित है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Rajendra Ranjan [rajgrajg85@yahoo.com] JAGDALPUR C.G. - 2012-05-03 13:48:06

 
  कुछ मारे जा रहे हैं मोटापे से... लाखों को जन्म से भूख ने मारा है.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in