पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

निर्मल बाबा के पक्ष में उतरी उमा भारती

निर्मल बाबा के पक्ष में उतरी उमा भारती

नई दिल्ली. 4 मई 2012

निर्मल बाबा


भाजपा नेता उमा भारती अब मीठी चटनी और खट्टे गुपचुप खिला कर समस्याओं को निपटाने का दावा करने वाले निर्मल बाबा के पक्ष में खड़ी हो गई हैं. उमा भारती का कहना है कि निर्मल बाबा को अकेले निशाना बनाया जाना गलत है. उन्होंने कहा कि जो भी नियम या कानून है, वो सबके लिये होना चाहिये. अकेले निर्मल बाबा के खिलाफ कार्रवाई किया जाना अन्यायपूर्ण है.

उमा भारती ने कहा कि दूसरे धर्मों में भी इसी प्रकार की सभाएं चलती हैं. भारत में ही नहीं बल्कि दूसरे देशों मे भी इसी प्रकार की धार्मिक सभाएं आयोजित की जाती हैं. ईसाई और दूसरे अन्यि धर्मों के जानकार भी अपने भक्तों के साथ इसी प्रकार बैठ कर उनकी समस्याूयों का समाधान करते हैं. ऐसे में निर्मल बाबा को निशाना बनाना ठीक नहीं है.

उमा भारती ने कहा कि अगर निर्मल बाबा पर रोक लगाने की बात की जा रही है तो दक्षिण भारत में इसाइयों के धर्मगुरु पॉल दिनाकरण पर भी पाबंदी लगाई जानी चाहिये. उमा भारती ने कहा कि कई धर्मों में लोग इसी तरह के उपाय बता कर लोगों की बीमारी ठीक करने का दावा करते हैं. लेकिन अकेले निर्मल बाबा को निशाना बनाना ठीक नहीं हैं.