पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

तो सिंघवी को फांसी दे देना चाहिये

तो सिंघवी को फांसी दे देना चाहिये

बीड. 5 मई 2012

अन्ना हजारे


अन्ना हजारे ने कहा है कि यदि कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी को कथित तौर पर एक महिला के साथ आपत्तिजनक मुद्रा में दिखाने वाली सीडी के मामले में दोषी पाया जाता है, तो उन्हें फांसी दे देनी चाहिए. लोकपाल कानून को लेकर अपनी विशेष यात्रा पर निकले हुये अन्ना हजारे के इस विवादास्पद बयान के बाद माना जा रहा है कि सीडी कांड से, अभिषेक मनु सिंघवी का पीछा आसानी से नहीं छूटने वाला.

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले एक सीडी सामने आई थी, जिसमें अभिषेक मनु सिंघवी को एक महिला के साथ आपत्तिजनक स्थिति में दिखाया गया था. इस सीडी में सिंघवी द्वारा कथित रुप से महिला को जज बनाने का आश्वासन भी देते हुये दिखाया गया था. सेक्स सीडी आने के बाद विवादों के घेरे में फंसे बाद कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने पार्टी के प्रवक्ता पद से इस्तीफा दे दिया था. सिंघवी ने कानून और न्याय मामलों की स्टेडिंग कमेटी से भी इस्तीफा दे दिया है.

अब इस सीडी को लेकर समाजसेवी अन्ना हजारे की वक्र दृष्टि पड़ी है. अन्ना हजारे ने कहा है कि यदि सिंघवी को दोषी पाया जाता है तो उन्हें फांसी दे देनी चाहिए. अन्ना हजारे ने कहा कि मजबूत लोकपाल आने से भ्रष्ट अफसरों को जेल जाना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि सरकारी अधिकारियों को सरकारी वेबसाइट पर अपनी संपत्तियों का खुलासा करने का निर्देश दिया जाना चाहिए.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

kuldeep sehdev [] ludhiana - 2012-05-05 04:56:14

 
  और दिल्ली हाईकोर्ट की उस जज का क्या किया जाना चाहिये जिसने इस के पाप को छिपाने मे पूरी बेशर्मी के साथ गैरकानूनी फैसला दिया है.क्या इस महिला जज की नियुक्ति भी ऐसी ही प्रक्रिया के तहत हुई थी और इसके नाम की अनुशंसा करने वाला महान् व्यक्तित्व कौन था,इस बात की जांच भी होनी ही चाहिये.  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in