पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

बाबा रामदेव देशद्रोह में फंसे

बाबा रामदेव देशद्रोह में फंसे

नई दिल्ली. 22 मई 2012

बाबा रामदेव


सांसदों को डकैत और हत्यारा कहना बाबा रामदेव को भारी पड़ सकता है. कानून के एक छात्र विभोर आनंद की शिकायत पर दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस को कहा है कि देश के सांसदों के खिलाफ बाबा रामदेव द्वारा की गई टिप्पणी के मामले में कार्रवाई रिपोर्ट पेश करे. रिपोर्ट पेश करने के लिये एक महीने का समय दिया गया है.

गौरतलब है कि विभोर आनंद ने अदावत में याचिका दायर करते हुये अनुरोध किया था कि बाबा रामदेव ने सांसदों के खिलाफ जो टिप्पणी की है, उस मामले में पुलिस को निर्देश दिया जाये कि वह रामदेव के विरुद्ध देशद्रोह का मामला दर्ज करे. विभोर आनंद का तर्क था कि देश के सांसद ही देश को चला रहे हैं और उन्हें इस तरह से हत्यारा और डकैत कहना देशद्रोह है.

इसी महीने अपनी देशव्यापी यात्रा की शुरुआत करते हुए रामदेव बाबा ने छत्तीसगढ़ के भिलाई में कहा था कि संसद में बैठे कुछ लोग रोगी, जाहिल और लुटेरे हैं. बाबा रामदेव ने सांसदों को हत्यारा तक करार देते हुए कहा कि संसद में बैठे लोग इंसान के रूप में शैतान-हैवान हैं. बाबा रामदेव ने सांसदों पर हमला बोलते हुये कहा था कि 543 रोगी हिंदुस्तान चला रहे हैं. हमने उन्हें कुर्सी पर बैठा दिया है. लेकिन उन्हें कुर्सी पर बैठने का अधिकार नहीं है. लेकिन देश चल रहा है. हमने ऐसा ही सिस्टम बनाया है. बेईमान, भ्रष्ट लोगों से संसद को भी बचाना है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

navin [] delhi - 2012-05-23 12:12:04

 
  आपको बाबा पर देशद्रोह का मुकदमा चलाने से पहले जितनी भी फिल्मों में नेताओं को गालियां दी गई हैं, उन पर पहले प्रतिबंध लगाने के लिये मुकदमा करना चाहिये और उनके निर्माता-निर्देशक पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करना चाहिये. 
   
 

Vipul Chandra Mishra [deshratnavipul@yahoo.com] Bangalore - 2012-05-22 17:54:07

 
  विभोर आनंद जी बोल रहे हैं कि देश के सांसद ही देश को चला रहे हैं...इन्हें जानकारी नहीं है कि देश चल रहा है देश के करोड़ों मेहनतकश किसीनों, कारिगरों, संतों की वजह से. इन्हें नाम की कोई चाह भी नहीं होती. 
   
 

ajit kumar [] hyderabad - 2012-05-22 15:53:59

 
  एक बार आप बाबा रामदेव पर करवाई करो उसके बाद देखो क्या होता है इस देश में .आखिर बाबा ने किया क्या है. गलत लोगो के खिलाफ आवाज उठाना देश द्रोह है.अगर हा तो हर एक भारतीय को देश द्रोह का काम करना चाहिए . 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in