पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >तमिलनाडु Print | Share This  

राजीव के हत्यारों का परीक्षाफल शानदार

राजीव के हत्यारों का परीक्षाफल शानदार

वेल्लोर. 22 मई 2012

पेरारिवलन


राजीव गांधी हत्याकांड में फांसी की सजा पाये पेरारिवलन और मुरूगन भले जेल की कोठरी में अपनी मौत के दिन गिन रहे हों लेकिन उन्होंने राज्य बोर्ड की बारहवीं की परीक्षा में शानदार अंक लाकर लोगों को चौंका दिया है. 12वीं की इस परीक्षा में 41 साल के पेरारिवलन को 91 प्रतिशत अंक हासिल हुये हैं, जबकि 43 साल के मुरूगन ने भी 81 प्रतिशत अंक पाये हैं.

वेल्लोर जेल में राजीव गांधी हत्याकांड में बंद इन दोनों बंदियों के साथ कुल आठ लोगों ने 12वीं की परीक्षा में भाग लिया था और सारे बंदी इस परीक्षा में पास हो गये हैं. लेकिन पेरारिवलन और मुरूगन ने अनुमान से अधिक अंक हासिल किये हैं.

जेल अधिकारियों के अनुसार कारावास के अंदर ही परीक्षा केंद्र बनाया गया था, जहां सभी बंदी 12वीं बोर्ड की परीक्षा में शामिल हुये. अब जब परीक्षा का परिणाम आया है तो जेल में खुशी का माहौल है. अधिकारियों के अनुसार 1200 अंकों की परीक्षा में पेरारिवलन को 1096 अंक मिले हैं, इसी तरह मुरूगन को 1200 में से 983 अंक मिले हैं.

गौरतलब है कि 21 मई 1991 को तमिलनाडु के श्रीपेरुम्बुदुर में राजीव गांधी की हत्या के लिए महिला नलिनी के अलावा मुरुगन, संथन एवं पेरारिवलन को फांसी की सजा दी गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने नलिनी की फांसी की सजा आजीवन कारावास में बदल दी थी लेकिन इन तीनों की दया याचिका राष्ट्रपति ने भी अगस्त 2011 में खारिज कर दी है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in