पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >उ.प्र. Print | Share This  

जुर्म से लदे मुलायम सिंह को जूरिस्ट सम्मान

जुर्म से लदे मुलायम सिंह को जूरिस्ट सम्मान

नई दिल्ली. 29 मई 2012 छत्तीसगढ़ विशेष संवाददाता

मुलायम सिंह यादव


समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को कल लंदन में इंटरनेशनल जूरिस्ट अवार्ड दिया गया. उनके अलावा पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश इफ्तिखार चौधरी को भी यह सम्मान दिया गया है. मुलायम सिंह के बारे में इस सम्मान के साथ-साथ कहा गया है कि वकालत (बार) और अदालत (बेंच) के विकास में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें यह सम्मान दिया जा रहा है. कहा गया कि कानूनी समुदाय के विकास में उनका सहयोग दुनिया में अद्वितीय है.

कल शाम लंदन में हुए इस कार्यक्रम में यह सम्मान लेने के लिए मुलायम सिंह वहां मौजूद नहीं थे. वैसे इसकी घोषणा 24 मार्च को हो गई थी. गौरतलब है कि 15 मार्च को मुलायम के बेटे अखिलेश यादव उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री बने. और यह भी उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में यह सम्मान देने वाली संस्था इंटरनेशनल कौंसिल ऑफ जूरिस्ट्स के अध्यक्ष भारत के एक वकील आदीश चंद्र अग्रवाल हैं जो कि सुप्रीम कोर्ट में उत्तरप्रदेश के वकील भी हैं.

अभी जब भारत का मीडिया उत्तरप्रदेश में समाजवादी पार्टी के इस ताजा शासनकाल में भयानक अपराधों को देखकर दहला हुआ है तब इस पार्टी के मुखिया को ऐसा सम्मान मिलना चौंकाता है. लेकिन इंटरनेट पर ढूंढें तो आदीश चंद्र अग्रवाल और मुलायम सिंह यादव की साथ-साथ पुरानी तस्वीरें भी दिख जाती हैं.

इस बारे में एक दिलचस्प बात यह भी है कि मुलायम सिंह को उत्तरप्रदेश में वकीलों के चेंबर और अदालतों की इमारतें बनाने का श्रेय दिया गया है और उत्तरप्रदेश में मुख्यमंत्री रहते हुए मुलायम ने दिल्ली से लगे हुए नोएडा में दस एकड़ जमीन सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की हाऊसिंग सोसायटी को उस समय आबंटित कर दी थी जब यह सोसायटी रजिस्टर भी नहीं हुई थी.

सम्मान देने वाली इस संस्था की वेबसाईट देखें तो उसमें पहले यह सम्मान पाने वाले लोगों में भारत के सुप्रीम कोर्ट के एक मुख्य न्यायाधीश के.जी. बालाकृष्णन भी हैं जो कि भ्रष्टाचार के बहुत से मामलों का सामना अदालत के सामने कर रहे हैं.

दूसरी तरफ मुलायम सिंह यादव भी अनुपातहीन संपत्ति के मामले अदालत में झेल रहे हैं और अदालत में सीबीआई के रूख पर, केंद्र सरकार के वकील के रूख पर कई सवाल भी उठ चुके हैं. एक जनहित याचिका से 2003 में यह मामला शुरू हुआ था जो अब तक चल ही रहा है. दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी की सरकार आने के बाद जिस तरह से सैकड़ों हत्याएं उत्तरप्रदेश में पिछले कुछ महीनों में ही हो चुकी हैं और आए दिन वहां बलात्कार हो रहे हैं उससे मुलायम सिंह की पार्टी बहुत बुरी तरह बदनामी झेल रही है. पिछली मुख्यमंत्री मायावती ने पिछले दो महीनों के आंकड़े पेश किए हैं जिनके मुताबिक दो महीनों के सपा-राज में ही 800 हत्याएं, 270 बलात्कार और 256 अपहरण हो चुके हैं.

समाचार एजेंसी के मुताबिक न्यायाधीश चौधरी के पुरस्कार लेने से थोड़ी ही देर पहले दो लोग होटल कोर्ट हाउस के सभागार में घुस आए और पाकिस्तान में हुई शिया हत्याओं के खिलाफ नारेबाजी करने लगे. न्यायाधीश चौधरी ने एक संक्षिप्त भाषण में कहा, पाकिस्तान की न्यायपालिका और न्यायपालिका की स्वतंत्रता के लिए लडऩे वाले वाले पाकिस्तान की आवाम की ओर से मैं धन्यवाद के साथ इस सम्मान को स्वीकार करता हूं.

पुरस्कार देते हुए लॉर्ड फिलिप ने प्रदर्शन का हवाला देते हुए कहा कि प्रदर्शन दिखाता है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता अभी भी जीवित है. सम्मेलन में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर भी बातचीत हुई . इस मुद्दे पर लॉर्ड फिलिप ने सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे का नाम लिए बगैर उनके द्वारा भारत में चलाए जा रहे भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन का हवाला देते हुए कहा भ्रष्टाचार को मिटाने के सिलसिले में भारत सबसे आगे चल रहा था. अफसोस की बात है, ऐसा नहीं हुआ.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in