पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >बिहार Print | Share This  

ब्रह्मेश्वर की हत्या के बाद बिहार में हाई अलर्ट

ब्रह्मेश्वर की हत्या के बाद बिहार में हाई अलर्ट

पटना. 1 जून 2012 प्रभात खबर

ब्रह्मेश्वर सिंह


बिहार के भोजपुर जिले में प्रतिबंधित जातीय संगठन रणवीर सेना के प्रमुख ब्रह्मेश्वर सिंह की हत्या के बाद आरा शहर में हुए जबर्दस्त उपद्रव, तोड़फोड़ और आगजनी के बाद शहर में निषेधाज्ञा लागू कर दी गयी है और पूरे राज्य में आज हाई अलर्ट जारी कर दिया गया.

शुक्रवार की सुबह सैर के दौरान अज्ञात हमलावरों ने नवादा थाना क्षेत्र के कतिरा मुहल्ले में अंधाधुंध गोलीबारी कर रणवीर सेना के प्रमुख ब्रह्मेश्वर सिंह उर्फ ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या कर दी. घटना के बाद उग्र समर्थकों ने आरा शहर में जमकर उपद्रव, तोड़फोड़ और कई स्थानों पर आगजनी की. उपद्रव को देखते हुए आरा शहर में धारा 144 लागू कर दी गयी है और आसपास के जिलों से अतिरिक्त पुलिस बल और अर्धसैनिक बलों की टुकडियों को बुलाया गया है.

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक विधि व्यवस्था एस के भारद्वाज ने बताया कि हत्या के विरोध में उपद्रव, तोड़फोड़ और आगजनी को देखते हुए आरा शहर में धारा 144 लागू कर दी गयी. पूरे राज्य में संवेदनशील स्थानों पर अप्रिय घटना की आशंका को देखते हुए हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है.

उन्होंने बताया कि रोहतास, पटना, बक्सर से अतिरिक्त पुलिस बल और बिहार सैन्य पुलिस बल की बटालियन संख्या., 2, 5, 10 और 14 की टुकडियों को आरा बुलाया गया है. भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती कर दी गयी है. भारद्वाज ने बताया कि पुलिस महानिदेशक अभयानंद ने घटनास्थल पर पहुंचकर मामले का जायजा लिया. वहीं अपनी सेवा यात्र के क्रम में भागलपुर का दौरा कर रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लोगों से शांति और सौहार्द बनाये रखने की अपील की है.

ब्रह्मेश्वर सिंह की हत्या के बाद रणवीर सेना के हजारों समर्थकों ने विरोध में कई सरकारी कार्यालयों और स्टेशनों पर आगजनी और तोड़फोड़ की. आक्रोशित लोगों ने घटनास्थल पर पहुंचे पुलिस अधीक्षक एस आर नायक और भाजपा विधायक संजय सिंह टाइगर के साथ भी धक्का मुक्की की. उपद्रवियों ने शहर में जगह जगह चक्का जाम कर दिया और आगजनी शुरु कर दी.

उन्होंने बताया कि उपद्रवियों ने स्थानीय सर्किट हाउस में आग लगा दी जहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी आगामी सेवा यात्र के दौरान ठहरने वाले थे. ब्रह्मेश्वर मुखिया की हत्या के विरोध में उनके समर्थकों ने कृषिभवन, आरा प्रखंड़ विकास पदाधिकारी कार्यालय और आरा स्टेशन में तोड़फोड़ और आगजनी की.

सूत्रों ने बताया कि उपद्रवियों ने आरा डेयरी के चार वाहनों में आग लगा दी और सड़कों पर अवरोध लगाकर चक्काजाम कर दिया. आरा के अनुमंड़ल अधिकारी धर्मेंश कुमार ने बताया कि जिलाधिकारी के आदेश पर पूरे आरा शहर में धारा 144 लगा दी गयी है. उन्होंने बताया कि शाम को स्थिति की समीक्षा के बाद आगे की रणनीति तय की जाएगी. रणवीर सेना के प्रवक्ता अजय सिंह ने बताया कि संगठन के समर्थक औरंगाबाद, सासाराम, जहानाबाद, अरवल और गया से आज आरा पहुंचेंगे जहां आगे की रणनीति तय की जाएगी.

बिहार में प्रतिबंधित जातीय संगठन रणवीर सेना पर कई जातीय नरसंहारों को अंजाम देने के आरोप हैं. सिंह पर इन नरसंहारों की साजिश रचने का आरोप था. इन नरसंहारों में दिसम्बर 1996 में हुआ लक्ष्मणपुर बाथे नरसंहार शामिल है जिसमें 61 दलितों की हत्या कर दी गई थी.

उल्लेखनीय है कि 1976 से 2001 के बीच ब्रह्मेश्वर ने अपनी तरह की सेना बनाकर भूमिहीन गरीबों के लिए अभियान चलाया था. इसके साथ ही 1990 के दशक में जहानाबाद, औरंगाबाद और नवादा जिले में हुए नरसंहारों में भी ब्रह्मेश्वर का हाथ होना संदिग्ध था. मुखिया जी की हत्या की खबर पाकर उनके हजारों समर्थक घटनास्थल पर पहुंच गये और सरकार विरोधी नारे लगाये. रणवीर सेना प्रमुख के रुप में नरसंहार से संबंधित 22 मामलों में से सिंह 16 में बरी हो चुके थे और छह में जमानत पर थे.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

kamal shukla [kamalkanker@gmail.com] kanker - 2012-06-01 15:33:09

 
  करीब 300 दलितों, और पिछड़ों की हत्या करने वाले खूनी दरिंदे ब्रहमेश्वर मुखिया ने जेल से निकलते ही कहा था कि नितीश कुमार बिहार में अच्छा काम कर रहे हैं। 9 सालों के बाद कुमार की विशेष कृपा के कारण जेल से बाहर निकले इस खूनी दरिंदे का आरा जेल के बाहर हजारों लोगों की भीड़ ने फ़ूल-माला के साथ स्वागत किया था । इस अवसर पर अपने पुराने रंग दिखाते हुए इस खूनी भेड़िये ने मुस्कराते हुए कहा था कि उसे कानून पर पूरा भरोसा है। 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in