पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >अमरीका Print | Share This  

मारा गया अल कायदा का अल लिबी

मारा गया अल कायदा का अल लिबी

वाशिंगटन. 6 जून 2012 बीबीसी

अबू याहया अल लिबी


एक अमरीकी अधिकारी ने बीबीसी को बताया है कि अल कायदा के एक वरिष्ठ नेता अबू याहया अल-लिबी सोमवार को हुए ड्रोन हमले में मारे गए हैं.

अमरीकी अधिकारी का कहना है कि पाकिस्तान के उत्तरी पश्चिमी इलाक़े में सोमवार को जिस ड्रोन हमले में 15 लोगों की मौत हुई थी, वह लिबी को निशाना बनाकर ही किया गया था. इस मौत पर पाकिस्तान की ओर से कोई पुष्टि नहीं की गई है. अधिकारियों का कहना है कि लिबी ने पश्चिमी देशों पर हुए हमलों की योजना बनाने में अहम भूमिका निभाई थी.

अमरीकी अधिकारी ने बीबीसी से कहा, "अल कायदा को जो नुकसान हुआ है इस समय उसकी भरपाई करने वाला और कोई और व्यक्ति नहीं है जो विशेषज्ञता में लिबी के आसपास भी बैठता हो. "

उनका कहना है कि उनकी जगह लेने के लिए किसी व्यक्ति की तलाश में बहुत मशक्कत करनी पड़ेगी.अमरीका का मानना है कि पिछले साल ओसामा बिन लादेन की मौत के बाद लिबी अयमान अल-जवाहिरी के बाद नंबर दो के नेता हो गए थे. अधिकारियों का कहना है कि लीबिया के इस्लामिक विद्वान लिबी लंबे समय से अल कायदा के सदस्य हैं और धार्मिक मामलों में उनकी पकड़ की वजह से वे फतवों के बारे में विशेषज्ञ माने जाते थे और साथ ही वे पाकिस्तान में चल रही गतिविधियों के लिए दिशानिर्देश देते थे.

विश्लेषकों का कहना है कि वे पाकिस्तान के कबायली इलाकों में रोजमर्रा की गतिविधियों के लिए भी जिम्मेदार थे.इससे पहले वर्ष 2009 में भी कहा गया था कि ड्रोन हमले में उनकी मौत हो गई है लेकिन बाद में पता चला कि वह कोई और व्यक्ति था जिन्हें गलती से लिबी समझ लिया गया था.

हालांकि अभी भी अमरीका ने ये विवरण नहीं दिए हैं कि उन्हें ये कैसे पता चला कि मारा गया व्यक्ति लिबी ही है.

सोमवार को उत्तरी वजीरिस्तान के मीरानशाह शहर के पूर्वी हिस्से के हेसोखेल में चालक रहित विमान यानी ड्रोन से दो मिसाइल हमले किए गए थे.पाकिस्तानी सुरक्षा अधिकारियों के अनुसार पहले हमले में एक परिसर को निशाना बनाया गया, जिसमें तीन संदिग्ध चरमपंथी मारे गए.

अधिकारियों के अनुसार इन मारे गए लोगों को देखने के लिए एकत्रित हुए लोगों पर दूसरा हमला किया गया जिसमें 12 संदिग्ध चरमपंथी मारे गए. हाल ही में अमरीका ने पाकिस्तान में ड्रोन हमले एक बार फिर तेज़ कर दिए हैं और पिछले दो हफ़्तों में ये आठवाँ ड्रोन हमला था. इसने पाकिस्तान में फिर नाराजगी पैदा कर दी है.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने इस्लामाबाद में अमरीका के उपराजदूत रिचर्ड होगलैंड को बुलाकर अपनी नाराजगी से उन्हें अवगत भी करवाया है. पाकिस्तान ने अमरीका से कहा है कि वह ड्रोन हमले करना बंद करे. वैसे पाकिस्तान जाहिर तौर पर हमेशा से ड्रोन हमलों का विरोध करता रहा है और कहता रहा है कि इसमें आम नागरिक भी मारे जा रहे हैं.लेकिन अमरीका ने ड्रोन हमले जारी रखे हैं.

वर्ष 2008 में बराक ओबामा के राष्ट्रपति बनने के बाद से अफगानिस्तान की सीमा से लगे पाकिस्तान के कबायली इलाक़ों में ड्रोन हमलों में काफी बढ़ोत्तरी हुई. इन हमलों में सैकड़ों लोग मारे गए हैं जिनमें अल कायदा और तालिबान के संदिग्ध चरमपंथी शामिल हैं. लेकिन पिछले साल सीमा की एक चौकी पर अमरीकी हमले में 24 पाकिस्तानी सुरक्षा बल जवानों के मारे जाने के बाद से अमरीका के साथ पाकिस्तान के संबंध तनावपूर्ण चल रहे हैं. इसी के बाद से पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के लिए नेटो की आपू्र्ति को भी रोक दिया है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in