पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
 पहला पन्ना > बहस > अर्थ-बेअर्थ Print | Send to Friend | Share This 

बापू के सामान, विजय माल्या के नाम

बापू के सामान, विजय माल्या के नाम

नई दिल्ली. 07 मार्च 2009

 

भारतीय उद्योगपति विजय माल्या ने अमेरिका में हुई नीलामी में 18 लाख यूएस डॉलर यानी करीब नौ करोड़ रुपये चुकाकर महात्मा गांधी की बहुमूल्य वस्तुएं अपने नाम कर लीं.

ये धरोहर हैं, महात्मा गांधी का एक चश्मा, जेब घड़ी, एक जोड़ी चमड़े की चप्पलें, एक कटोरी और पीतल की वह थाली, जिसमें महात्मा गांधी ने 1948 में अपनी हत्या से पहले अंतिम बार भोजन किया था.

महात्मा गांधी के पोते तुषार गांधी ने कहा कि इन वस्‍तुओं के भारत आने के बाद मैं खुश हूं लेकिन सरकार ने जो किया वो निराशाजनक रहा. ज्ञात रहे कि भारत सरकार ने बापू की इन निशानियों को भारत लाने के लिए कई दावे किये थे.

भारत के विदेश राज्य मंत्री आनंद शर्मा ने अमरीका में अपने प्रतिनिधियों से कहा था कि वह महात्मा गांधी की यादगार निजी वस्तुओं को देश के लिए हासिल करने की हर संभव कोशिश करें, फिर चाहे इसके लिए उन्हें नीलामी में बोली ही क्यों न लगानी पड़े.

इस नीलामी से लंबा ड्रामा चला. भारत सरकार ने बापू की वस्तुओं को नीलाम कर रहे जेम्स ओटिस से गुजारिश की थी कि नीलामी रोक दी जाए. लेकिन ओटिस ने शर्त रखी कि वे गांधीजी की ये चीज़ें भारत सरकार को देने को तैयार हैं, बशर्ते सरकार ग़रीबों की ज़्यादा मदद करने को तैयार हो. ओटिस ने कहा कि भारत सरकार ग़रीबों पर ख़र्च की जाने वाली राशि को कुल राष्ट्रीय उत्पाद के एक प्रतिशत से बढ़ा कर पांच प्रतिशत कर दे. इसके बाद भी बात नहीं बनी और अंततः नीलामी में विजय माल्या ने आगे बढ़ कर महात्मा गांधी की ये वस्तुएं अपने नाम कर लीं.

सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें
 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

भोला प्रसाद भगत (bholabhagat@hotmail.com) मुंगेर (बिहार)

 
 राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी की यादगारी की वस्तुओं की नीलामी को नहीं रोक पाना भरत सरकार के लिए अत्यन्त शर्म की बात है । विशेषकर कांग्रेस सरकार के लिए जो अपने को बापू का सच्चा अनुयाई कहती रही है। उसने बापू के सपनों के भारत बनाने के नाम पर बाहुबलियों और भ्रष्ट लोगों के हाथों में आम जनता का नंगा शोषण करवाया ।
यदि बापू आज जिंदा होकर देश की दुर्दशा को देखें पाते तो उन्हें घोर पश्चाताप होता कि मैंने देश की आजादी की बागडोर किन नालायक स्वार्थी हाथों में दे डाला। यदि वोट की राजनीति न हो तो ऐसे तथाकथित देशभक्त बापू को भी नीलाम कर विदेशी बैंकों मे डॉलर जमा करने से तनिक भी न हिचकिचाएँगे।
 
   

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   

 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in