पहला पन्ना >राजनीति >उड़ीसा Print | Share This  

शौचालय नहीं तो मिसाइल बेकार-जयराम

शौचालय नहीं तो मिसाइल बेकार-जयराम

भुवनेश्वर. 25 जून 2012

जयराम रमेश


केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने कहा कि हरित शौचालय का नाम बापू रखा जाना चाहिये. यह महात्मा गांधी के प्रति हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी. देश के मिसाइल परीक्षण केंद्र के पास हरित शौचालय का शुभारंभ करते हुये उन्होंने कहा कि अग्नि मिसाइल दागने से कहीं अधिक जरुरी है कि देश में सभी लोगों को शौचालय मुहैय्या कराया जाये. उन्होंने कहा कि यदि स्वच्छता की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो अग्नि मिसाइल दागने का कोई फायदा नहीं है.

जयराम रमेश ने कहा कि हरित शौचालयों का नाम बापू रखा जाये जो महात्मा गांधी को एक श्रद्धाजंलि होगी क्योंकि गांधी जी ने ही देश में स्वच्छता अभियान चलाया था. जयराम रमेश ने कहा कि यह जरुरी है कि देश के हरेक नागरिक के पास शौचालय की सुविधा हो. ऐसा नहीं होने की स्थिति में हम ग्रामीण स्वच्छता की बात नहीं कर सकते.

गौरतलब है कि 2011 की जनगणना के अनुसार भारत में 49.8 फीसदी लोगों के पास शौचालय नहीं है लेकिन 63.2 फीसदी लोगों के पास टेलीफोन कनेक्शन हैं, जिसमें से 53 फीसदी लोगों के पास मोबाइल फोन कनेक्शन है. जिन राज्यों में शौचालय की सर्वाधिक कमी है, उनमें झारखंड सबसे आगे है, जहां 77 फीसदी आबादी के पास शौचालय नहीं है. दूसरे स्थान पर ओडिशा और तीसरे पर बिहार का स्थान है. यूनिसेफ का कहना है कि भारत के कई राज्यों को अपनी संपूर्ण आबादी के लिए शौचालय की सुविधा विकसित करने में 90 साल से अधिक का समय लग सकता है.