पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >बात Print | Share This  

गॉड पार्टिकल का खुला राज

गॉड पार्टिकल का खुला राज

लंदन. 4 जुलाई 2012

गॉड पार्टिकल


मानव इतिहास की सर्वाधिक महंगी और महत्वपूर्ण खोज के तहत बुधवार को स्विटज़रलैंड में वैज्ञानिकों ने घोषणा की है कि हिग्स कण की खोज कर ली गई है. हिग्स बॉसन या God Particle विज्ञान की एक ऐसी अवधारणा रही है, जिसे अभी तक प्रयोग के ज़रिए साबित नहीं किया जा सका था. अब जा कर वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि उन्होंने इसके ठोस सबूत एकत्र कर लिये हैं. इस हिग्स बॉसन में ही जीवन और सृष्टि के रहस्य छुपे हुये हैं.

बीबीसी के अनुसार वैज्ञानिक इससे ये साबित करने में जुटे थे कि कणों में भार क्यों होता है. पिछले साल दिसंबर में लार्ज हेड्रॉन कोलाइडर नामक परियोजना के शोधकर्ताओं ने कहा था कि उन्हें इस कण की मौजूदगी के बारे में संकेत मिले हैं.

वैज्ञानिकों की अब ये कोशिश होगी कि वे पता करें कि ब्रह्रांड की स्थापना कैसे हुई होगी. हिग्स बॉसन के बारे में पता लगाना भौतिक विज्ञान की सबसे बड़ी पहेली माना जाता रहा है.

लार्ज हेड्रॉन कोलाइडर नामक परियोजना में दस अरब डॉलर खर्च हो चुके हैं. इस परियोजना के तहत दुनिया के दो सबसे तेज़ कण बनाए गए हैं जो प्रोटान से टकराएंगे प्रकाश की गति से. इसके बाद जो होगा उससे ब्रह्रांड के उत्पत्ति के कई राज खुल सकेंगे.

लीवरपूल यूनिवर्सिटी में पार्टिकल फिजिक्स पढ़ाने वाली तारा सियर्स कहती हैं, ‘‘हिग्स बॉसन से कणों को भार मिलता है. यह सुनने में बिल्कुल सामान्य लगता है. लेकिन अगर कणों में भार नहीं होता तो फिर तारे नहीं बन सकते थे. आकाशगंगाएं न होंती और परमाणु भी नहीं होते. ब्रह्रांड कुछ और ही होता.’’

भार या द्रव्यमान वो चीज है जो कोई चीज़ अपने अंदर रख सकता है. अगर कुछ नहीं होगा तो फिर किसी चीज़ के परमाणु उसके भीतर घूमते रहेंगे और जुड़ेंगे ही नहीं.

इस सिद्धांत के अनुसार हर खाली जगह में एक फील्ड बना हुआ है जिसे हिग्स फील्ड का नाम दिया गया इस फील्ड में कण होते हैं जिन्हें हिग्स बॉसन कहा गया है. जब कणों में भार आता है तो वो एक दूसरे से मिलते हैं.

हिग्स सिद्धांत का प्रतिपादन 1960 के दशक में प्रोफेसर पीटर हिग्स ने किया था. हिग्स भी जेनेवा के कार्यक्रम में आमंत्रित थे और उन्होंने इस उप्लब्धि पर हर्ष जाहिर करते हुए कहा कि, "चालीस वर्ष पहले इसपर काम करते हुए मुझे नहीं लगा था कि मेरे जीवनकाल में ये संभव हो पाएगा."

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

KISHORKUNAL [KISHORKUNAL14287@GMAIL.COM] GAYA - 2013-04-09 17:42:57

 
  God particle? भी हम कुछ भी नहीं कह सकते हैं इसके बारे में. कोई रिपोर्ट नहीं है, लेकिन ये है और बहुत पावरफुल है, कंप्लीट रेडिएशन है. कुछ भी नजर नहीं आता है. divine radiance. 
   
 

Ramesh Chandra Saraswat [] Agra - 2012-07-04 17:08:54

 
  ऐसा लगता है बहुत ही जल्दबाजी भरा फैसला है ये, ऐसा भी कहीं होता है इतनी बड़ी न्यूज़ और बिलकुल साधारण तरीके से पब्लिश हो गयी, जबकि तथ्य नहीं बताये और ना ही पूरी थ्योरी स्टेप बाई स्टेप. मतलब क्या है गोड पार्टिकल का ये कोई तीन चार लाइन कोई कैसे समझा सकता है . चाँद सितारों के पुराने फोटो दिखाने से क्या साबित करना चाहते हैं. कोई कैसे विश्वास कर सकता है .कुछ मेहनत करिए सबूत जुटाइये. जो अपनी सच्ची सूरत दिखा दें, ऐसे नहीं दुनियावाले. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in