पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

जंतर-मंतर नहीं तो जेल में प्रदर्शन

जंतर-मंतर नहीं तो जेल में प्रदर्शन

नई दिल्ली. 7 जुलाई 2012

अन्ना हजारे


अन्ना हजारे की टीम ने अपने प्रस्तावित प्रदर्शन को लेकर कहा है कि हमारा प्रदर्शन या तो जंतर मंतर पर होगा या फिर जेल में. यह सरकार तय नहीं कर सकती कि हमें कहां, कितने दिन और कितने लोगों के साथ प्रदर्शन करना है.

गौरतलब है कि 25 जुलाई से 8 अगस्त तक टीम अन्ना ने जंतर मंतर पर प्रदर्शन करने के लिये पुलिस प्रशासन से अनुमति मांगी थी. लेकिन पुलिस ने यह कहते हुये जंतर मंतर पर प्रदर्शन की अनुमति नहीं दी कि इस स्थान पर लोगों के बैठने की सीमित व्यवस्था है और इसी को ध्यान में रखते हुए सभी लोगों को स्थान आवंटित किया जाता है. भारी संख्या में भीड़ जुटने से भगदड़ और अन्य सुरक्षा से संबंधित मसले सामने आ सकते हैं.

इसके बाद अरविंद केजरीवाल ने एक सभा में कहा कि यह हमें मंजूर नहीं है. सरकार को जो करना हो करे. हमारी तरफ से यह फैसला अंतिम है कि या तो हमें जंतर मंतर पर विरोध करने दिया जाए या फिर हम जेल में ही विरोध करेंगे.

इधर बाबा रामदेव के प्रवक्ता एस. के. तिजारावाला ने गुरुवार को मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि बाबा रामदेव ने रामलीला मैदान के लिए दिल्ली निगम की इजाजत ले रखी है. अगर टीम अन्ना उनसे संपर्क करती है तो वे टीम अन्ना को जगह देने पर विचार कर सकते हैं.