पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >गुजरात Print | Share This  

नरेंद्र मोदी बने नेताजी सुभाष चंद्र बोस

नरेंद्र मोदी बने नेताजी सुभाष चंद्र बोस

अहमदाबाद. 7 जुलाई 2012

नरेंद्र मोदी


गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की टोपी क्या पहनी, खुद को नेताजी समझने लग गये. अहमदाबाद के टैगोर हॉल में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की इंडियन नैशनल आर्मी के रेजिंग-डे समारोह में मोदी ने नेताजी की शैली वाली टोपी पहनी और नेताजी के नारे 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा' को तोड़-मरोड़ कर अपने अंदाज में पेश कर दिया.

इस आयोजन में नरेंद्र मोदी ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस ने अंग्रेजों से लड़ने के लिए नारा दिया 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा.' मैंने हरिपुरा में नारा दिया और गुजरात की जनता से मांगा, 'तुम मेरा साथ दो, मैं तुम्हें विकास दूंगा.' आजादी के समय लोग देश के मरते थे, लेकिन आज देश के जीने वाले लोगों की जरूरत है.

नरेंद्र मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुये कहा कि 20 साल बाद मनमोहन सिंह एक बार फिर वित्त मंत्री बन गए हैं. पिछले 24 घंटे में उन्होंने कदम उठाए हैं और आर्थिक सुधारों के लिए नीतियों की घोषणा कर रहे हैं. क्या वजह थी कि प्रधानमंत्री पद पर रहते आप पिछले आठ साल में ये घोषणाएं नहीं कर सके, लेकिन जब आपके वित्त मंत्री ने इस्तीफा दे दिया तो पिछले 24 घंटे में आप यह कर रहे हो? नरेंद्र मोदी ने कहा कि क्या आपके वित्त मंत्री आपकी सुन नहीं रहे थे? या आपके तथा वित्त मंत्री के बीच तालमेल की कमी थी? इन सवालों के जवाब प्रधानमंत्री और मुखर्जी दोनों को देने चाहिए.

गुजरात के मुख्यमंत्री ने कहा कि यह रहस्य की बात है कि वित्त मंत्री के इस्तीफे के बाद मनमोहन सिंह दोगुने उत्साह से आर्थिक सुधार की प्रक्रिया में जुट गए हैं. इस मामले की जांच होनी चाहिये.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

मोनू [] पयापुर - 2015-10-19 12:48:55

 
  इस बात सहमत  
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in