पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >संवाद Print | Share This  

करीना कपूर हैं झूठी

करीना कपूर हैं झूठी

मुंबई. 12 जुलाई 2012

करीना कपूर


रामलीला फिल्म को लेकर बढ़ने वाला विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. अब फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली ने आरोप लगाया है कि उन्होंने फिल्म से करीना कपूर को बाहर किया है और करीना का कहना है कि उन्होंने डेट्स की वजह से फिल्म छोड़ी है. हालत ये है कि भंसाली ने एक बयान में साफ तौर पर करीना कपूर को झूठा बताते हुये कहा है कि वे भविष्य में कभी भी करीने के साथ काम नहीं करेंगे.

संजय लीला भंसाली का तर्क है कि रोमियो एंड जूलियट प्ले पर आधारित रामलीला फिल्म जब दर्शकों के बीच जाएगी तब तक करीना कपूर शादी कर चुकी होंगी. ऐसे में दर्शकों का एक बड़ा वर्ग एक शादीशुदा पात्र को शायद पसंद नहीं करे. इसलिये ही उन्होंने करीना कपूर को इस फिल्म से बाहर कर दिया.

कहा जा रहा है कि रामलीला में करीना के बजाये प्रियंका चोपड़ा को लेने का निर्णय भंसाली ने ऐसे समय में लिया है, जब करीना के सामने एक बार फिर अपने को साबित करने का मुद्दा है. खबर है कि रामलीला से बाहर होने के बाद करीना कपूर अब प्रकाश झा की फिल्म में एक राजनीतिज्ञ की भूमिका निभाएंगी. इस फिल्म में वे अजय देवगन के साथ प्रधानमंत्री की भूमिका में नजर आएंगी औऱ यह फिल्म इसी साल तक जनता के सामने होगी.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Sanjana Singh [sanjana2012.patna@gmail.com] Patna - 2012-07-12 05:13:35

 
  भारतीय फिल्मकार आज भी औरतों को पैर की जूती समझते हैं और स्त्री को दोयम दर्जे का मान कर चलते हैं. सवाल भारतीय मानसिकता का भी है. एक पुरुष के विवाहित होने पर तो कोई सवाल नहीं उठता. लेकिन एक स्त्री विवाह कर ले तो उसकी अभिनय प्रतिभा एक किनारे कर दी जाती है. क्या इस मानसिकता को 65 साल बाद भी बदला नहीं जा सकता. छीः छीः शर्म आती है ऐसे समाज पर. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in