पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >व्यापार >अमरीका Print | Share This  

पुरुष गर्भ निरोधक दवा जल्दी ही

पुरुष गर्भ निरोधक दवा जल्दी ही

न्यूयार्क. 17 अगस्त 2012 बीबीसी

गर्भ निरोधक


वैज्ञानिकों का कहना है कि वे पुरुष गर्भनिरोध दवा बनाने की मुश्किल प्रक्रिया के और करीब पहुँच गए हैं. वैज्ञानिकों ने चूहों पर सफल परीक्षण किया है.

महिलाओं के लिए गर्भनिरोधक दवा तो दशकों से मौजूद है पर पुरुषों के लिए ऐसी गोली अब तक नहीं बन पाई है. सेल नाम की पत्रिका में छपा ये अमरीकी अध्ययन बताता है कि इस दवा से चूहों की यौन क्रियाओं पर असर नहीं पड़ा लेकिन प्रजनन क्षमता अस्थाई तौर पर खत्म हो गई.

विशेषज्ञों के मुताबिक ये अध्ययन काफी उत्साहवर्धक है लेकिन लोगों पर ये परीक्षण होना बाकी है. पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक गोली न होने की वजह से बड़ी संख्या में अनियोजित गर्भ धारण करने के मामले सामने आते रहे हैं. चुनौती ये है कि ऐसी दवा बनाई जाए जो खून से अंडकोष (टेस्टिकल्स) में जा सके.

डाना-फार्बर कैंसर इंस्टीट्यूट एंड बेलर कॉलज ऑफ मेडिसन में अमरीकी शोधकर्ता जेक्यू1 नाम की दवा का परीक्षण कर रहे थे.

ये दवा प्रोटीन की एक ऐसी किस्म पर निशाना साधती है जो सिर्फ अंडकोष में ही पाया जाता है और शुक्राणु उत्पादन में अहम भूमिका निभाता है.

जिन चूहों को दवा दी गई उनके अंडकोष सिकुड़ने लगे, शुक्राणु कम बनने लगे और कुछ की प्रजनन क्षमता चली गई. लेकिन जब ये जानवर दवा नहीं ले रहे थे तो उनकी प्रजनन क्षमता सामान्य थी और बच्चे हो रहे थे.

शोधकर्ताओं का कहना है कि इससे संकेत मिलते हैं कि पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक दवा बनाना संभव है. लेकिन अभी और परीक्षण करने की जरूरत है ताकि ये पता लगाया जा सके कि ये दवाएँ मनुष्यों के लिए सुरक्षित और कारगर हैं.

यूनिवर्सिटी ऑफ शेफील्ड के डॉक्टर ऐलन पेसी ने बीबीसी को बताया, “अब तक जितने परीक्षण हुए हैं उनमें इंजेक्शन या इम्पलांट के जरिए टेस्टोस्टिरोन हॉरमोन से छेड़छाड़ की जाती थी ताकि शुक्राणु न बन सकें. लेकिन ये तकनीक रूटीन इस्तेमाल में नहीं आ सकी. इसलिए ऐसी दवा की जरूरत है जो हॉरमोन पर निर्भर न हो.”


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in