पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

राडिया के टेप लीक का सरकार को नहीं पता

राडिया के टेप लीक का सरकार को नहीं पता

नई दिल्ली. 23 अगस्त 2012 बीबीसी

नीरा राडिया


सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि वो मीडिया में लीक हुए विवादित नीरा राडिया टेप के स्रोत का पता नहीं कर पाई है.समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक गुरुवार को सरकार ने जस्टिस जीएस सिंघवी और एसजे मुखोपाध्याय की पीठ के सामने एक सीलबंद लिफ़ाफ़े में अपनी गोपनीय जांच रिपोर्ट रखी. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि उस सूत्र का पता लगाना मुश्किल है जिसने आयकर विभाग द्वारा रिकॉर्ड किए गए टेपों को मीडिया में लीक किया.

रिपोर्ट पढ़ने के बाद पीठ ने कहा, "संक्षिप्त में कहें तो रिपोर्ट कहती है कि टेप लीक करने वाले सूत्र का पता लगाना मुश्किल है. ये लोग उस सूत्र को नहीं ढूंढ पाए हैं." पीठ ने ये भी कहा कि रिपोर्ट में सरकार ने कहा है कि जो भी टेप उसके पास थे, नियमों के मुताबिक उनकी मूल प्रति सुप्रीम कोर्ट को सौंपने के बाद उन सभी को नष्ट कर दिया गया है.

सेंटर फॉर पब्लिक इंट्रेस्ट लिटिगेशन नाम की एक ग़ैर-सरकारी संस्था ने इन टेपों में रिकॉर्ड हुई सारी बातचीत को सार्वजनिक करने की मांग की है. इस संस्था के वकील प्रशांत भूषण ने सरकार के इस दावे को "बहुत हैरानी" वाली घटना बताया. इससे पहले सरकार ने एक स्टेटस रिपोर्ट दायर की थी इन टेपों को लीक करने के लिए सरकारी एजेंसियां ज़िम्मेदार नहीं थीं और मीडिया ने जिन राडिया टेपों का प्रसारण किया था, उनके साथ छेड़-छाड़ की गई थी.

कॉर्पोरेट दलाल नीरा राडिया की कंपनी टाटा समूह और मुकेश अंबानी के नेतृत्व वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज़ लिमिटेड के लिए जनसंपर्क का काम किया करती थी. इस साल की शुरुआत में नीरा राडिया की विभिन्न उद्योगपतियों, राजनीतिज्ञों, अधिकारियों और पत्रकारों से फ़ोन पर हुई बातचीत के ब्यौरे मीडिया में प्रकाशित हुए थे.

इस बातचीत के बाद से ही 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में नीरा राडिया की भूमिका पर सवाल उठने लगे थे.इन टेप्स में देश के बड़े उद्योगपति रतन टाटा से फ़ोन पर की गई बातचीत भी शामिल है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in