पहला पन्ना > राजनीति > चुनाव 2009 Print | Send to Friend | Share This 

प्रधानमंत्री ने साधा वामपंथियों पर निशाना

प्रधानमंत्री ने साधा वामपंथियों पर निशाना

नई दिल्ली. 11 अप्रैल 2009

 

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वामपंथियों पर निशाना साधते हुए कहा है कि वामपंथी हमेशा से गलत पक्ष की ओर खड़े रहे हैं और उन्होंने विकास को बाधित किया है. बाई पास सर्जरी के बाद पहली बार केरल के कोच्ची में एक सभा को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने सिलसिलेवार तरीके से वामपंथी दलों की आलोचना की.

मनमोहन सिंह ने कहा कि जब महात्मा गांधी ने भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया, तो वामपंथियों ने इसमें हिस्सा नहीं लिया. जब भारत आज़ाद हुआ तो उन्होंने कहा कि ये आज़ादी वास्तविक नहीं है.

श्री सिंह का कहना था कि जब 1960 के दशक में इंदिरा गांधी ने हरित क्रांति की शुरुआत की, तो वामपंथियों ने यह कहकर इसका विरोध किया कि यह विदेशी बीज कंपनियों के फ़ायदे के लिए है. इसी तरह राजीव गांधी के जमाने में संचार क्रांति की शुरुवात का वाम दलों ने यह कहते हुए विरोध किया कि इससे लोगों की नौकरियां चली जाएंगी.

प्रधानमंत्री ने परमाणु करार का मुद्दा उठाते हुए कहा कि परमाणु समझौता देश की ऊर्जा ज़रूरतों को पूरा करने के लिए था. ताकि देश का विकास हो सके और परमाणु क्षेत्र में भारत अलग-थलग न पड़े. लेकिन जब सरकार ने अमरीका के साथ परमाणु समझौते की शुरुआत की तो वाम दलों ने इसका विरोध किया और समर्थन वापस ले लिया.

मनमोहन सिंह ने कहा कि वामदलों में सत्ता को लेकर काफी संघर्ष की स्थिति बनी हुई है. उन्होंने जनता से आह्वान किया कि वह कांग्रेस जैसी स्थिर पार्टी का चयन करे.