पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >अर्थ > Print | Share This  

सीआरआर यथावत बना रहेगा: रिजर्व बैंक

सीआरआर यथावत बना रहेगा: रिजर्व बैंक

कांचीपुरम. 28 अगस्त 2012

reserve bank of india


भारतीय रिजर्व बैंक के गर्वनर के सी चक्रवर्ती ने भारतीय स्टेट बैंक प्रमुख के चेयरमैन प्रतीप चौधरी को उनकी नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) संबंधित टिप्पणी के लिए आड़े हाथों लिया. ग्रेटर लेक्स इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट की सालाना गोष्ठी को संबोधित करते हुए च्रकवर्ती ने कहा कि चौधरी यदि केंद्रीय बैंक के नियामकीय माहौल में काम नहीं कर सकते तो अपने लिए कोई और जगह तलाश कर लें. उन्होंने कहा कि आरबीआई नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) को खत्म करने के बारे में सोच भी नहीं सकता और बैंको को मौजूदा वातावरण में ही काम करना होगा.

उल्लेखनीय है कि कुछ दिनों पहले भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन प्रतीप चौधरी ने कहा था कि नगद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) की वजह से बैंकों को 21 हजार करोड़ रुपये की भारी भरकम राशि का बोझ उठाना पड़ रहा है. इससे किसी का भला नहीं हो रहा अतः इसे खत्म किया जाना चाहिए. दरअसल सीआरआर बैंकिंग जमाओं का वह हिस्सा होता है जो वाणिज्यिक बैंकों को केंद्रीय बैंक के पास जमा रखना पड़ता है. इस समय सीआरआर 4.75 प्रतिशत है. रिजर्व बैंक इस जमा पर उन्हें कोई ब्याज नहीं देता जबकि बैंको को अपने जमाकर्ताओं को इस राशि पर ब्याज देना पड़ता है जिससे उनकी लागत बढ़ती है.

संस्थान के एक अन्य छात्र के सवाल कि किस बैंक को संरक्षण की जरूरत है पर च्रकवर्ती ने कहा, निश्चित रूप से भारतीय स्टेट बैंक. यह बहुत बड़ा पेड़ है और अगर आप इस पेड़ का बचाव नहीं कर पाते तो यह (आग) दूसरे बैंकों तक फैलेगी और प्रणालीगत विफलता हो सकती है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in