पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >न्यायपालिका > Print | Share This  

अज़मल कसाब की फांसी की सज़ा बरकरार

अज़मल कसाब की फांसी की सज़ा बरकरार

नई दिल्ली. 29 अगस्त 2012


उच्चतम न्यायालय ने मुंबई आतंकी हमले में पकड़े गए एकमात्र जीवित आतंकवादी अज़मल कसाब की अपील खारिज करते हुए उसकी फांसी की सज़ा बरकरार रखी है. 26 नवंबर 2008 को हुए इस आतंकी हमले में शामिल आतंकी अज़मल कसाब को सबसे पहले मुंबई की एक विशेष अदालत ने वर्ष 2010 में फांसी की सज़ा सुनाई थी. कसाब ने इस फैसले को बम्बई उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी जिसे फरवरी 2011 में उच्चतम न्यायालय द्वारा अमान्य कर दिया गया था.

इसके बाद कसाब ने उच्च न्यायालय के निर्णय के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी. अपनी अपील में कसाब ने मामले की निष्पक्ष सुनवाई न होने, कसाब की उम्र कम होने और हमले के समय उसके सिर्फ रोबोट की तरह काम करने की दलीलें दी थीं. जस्टिस आफताब आलम और जस्टिस चंद्रमौलि कुमार प्रसाद की बेंच ने इस अपील पर अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि यह देश की संप्रभुता पर हमला था और इसके आरोपी को फांसी की सज़ा से कम सज़ा सुनाई नहीं जा सकती. उन्होंने कसाब की उम्र कम होने और उसके सिर्फ रोबोट की तरह काम करने की दलील भी खारीज कर दी.

कसाब को हत्या, हत्या की साजिश, देश के खिलाफ जंग छेड़ना, हत्या में सहयोग देने और गैर कानूनी गतिविधि अधिनियम के तहत आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने के आरोप में फांसी की सजा सुनाई गई है. कसाब चाहे तो इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में पुनर्विचार की याचिका भी दाखिल कर सकता है. कसाब की फांसी की तारीख निचली अदालत के द्वारा तय की जाएगी.
 

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Anil Kumar [anillalganj75@gmail.com] ballia - 2012-08-30 02:47:25

 
  Hang till death. This is the true tribute to suffering India. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in