पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

मुलायम कोल घोटाले की चाहते हैं जांच

मुलायम कोल घोटाले की चाहते हैं जांच

नई दिल्ली. 30 अगस्त 2012

मुलायम सिंह यादव


समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि कोयला ब्लाक आवंटन मामले में सरकार को पूरे मामले की सुप्रीम कोर्ट के किसी मौजूदा जज से जांच करानी चाहिये. उन्होंने कहा कि वे इस कथित घोटाले की जांच की मांग के लिए अन्य दलों को भी साथ लाने का प्रयास कर रहे हैं. मुलायम सिंह ने कहा कि हम अन्य दलों से भी बातचीत कर रहे हैं. हम चाहते हैं कि इसकी जांच होनी चाहिए और दोषियों को सजा मिलनी चाहिए.

इधर कोयला मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने साफ कहा है कि कोल ब्लॉक आवंटन मामले में सीबीआई ने सिर्फ 57 कोल खदानों को नोटिस जारी किया गया है, जिसमें 17 कोल खदानों के आवंटन को रद्द करने का नोटिस भी शामिल है. उन्होंने कहा कि सभी कोल खदान आवंटनों को रद्द करने का सवाल ही नहीं उठता.

दूसरी ओर कांग्रेस अध्यक्ष और यूपीए की मुखिया सोनिया गांधी ने बाड़मेर में एक सभा में भाजपा पर हमला बोलते हुये कहा है कि भाजपा संसद का कामकाज रोक कर लोकतंत्र को नुकसान पहुंचा रही है. सोनिया गांधी ने ये भी कहा है कि सरकार हर मुद्दे पर संसद में बहस करने को तैयार है. लेकिन भाजपा ऐसा नहीं चाहती.

कैग की रिपोर्ट को लेकर भाकपा नेता गुरुदास दासगुप्ता ने कहा कि हमारी तीन संवैधानिक संस्थाए हैं- कैग, सीवीसी और निर्वाचन आयोग. प्रधानमंत्री को इन संस्थाओं के खिलाफ बोलने का अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि यह मैच फिक्सिंग से कहीं अधिक है. कांग्रेस और भाजपा एक दूजे के लिए बने हैं. हमारी लड़ाई दोनों के खिलाफ है. वे देश में गंभीर आर्थिक स्थिति पर चर्चा करने के इच्छुक नहीं हैं क्योंकि उनकी नीतियां कुल मिलाकर एक जैसी हैं.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in