पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >गुजरात Print | Share This  

नरोडा पाटिया दंगों पर विशेष अदालत का फैसला

नरोडा पाटिया दंगों पर विशेष अदालत का फैसला

अहमदाबाद. 31 अगस्त 2012

गुजरात दंगे


साल 2002 में गुजरात के नरोदा पाटिया में हुए दंगो पर सुनवाई करते हुए शुक्रवार को विशेष अदालत ने नरोडा पाटिया की मौजूदा विधायक और भाजपा नेता माया कोडनानी को 28 साल कैद की सज़ा सुनाई. मामले के दूसरे मुख्य आरोपी बजरंग दल के पूर्व नेता बाबू बजरंगी को आजीवन उम्रकैद की सज़ा सुनाई गई है. इसके अलावा 29 अन्य आरोपियों में से 7 को 31 साल की और 22 को 24 साल की सज़ा सुनाई गई है. इन्हीं दंगो के दौरान बलात्कार का शिकार हुई एक महिला को 5 लाख रुपए जुर्माने दिए जाने का भी फैसला सुनाया गया है.

गौरतलब है कि विशेष अदालत ने माया कोडनानी, बाबू बजरंगी और बाकी 29 आरोपियों को 29 अगस्त को दोषी पाया था. 28 फरवरी 2002 को गुजरात के नरोडा पाटिया में हुए इन दंगों में 97 लोगों की हत्या कर दी गई थी, जिसके लिए 32 लोगों को दोषी करार दिया गया था.
मामले पर फैसला देते हुए विशेष अदालत ने कहा कि ये दंगे लोकतंत्र पर काला धब्बा हैं. अदालत ने यह भी कहा कि माया कोडनानी ने अपनी जिम्मेदारी सही तरीके से नहीं निभाई. अदालत ने माया कोडनानी को दंगाइयों की भीड़ को उकसाने और उनका नेतृत्व करने का दोषी पाया और उन्हें दो अलग अलग धाराओं में क्रमशः पहले 10 साल और फिर 18 साल की सजा सुनाई.

उल्लेखनीय है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की करीबी माने जाने वाली माया कोडनानी उनकी सरकार में महिला और बाल विकास मंत्री भी रह चुकी हैं. यह पहला अवसर है कि गुजरात दंगों की सुनवाई में किसी बड़े नेता को सज़ा सुनाई गई है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

प्रियंका सिंह [rustic.fervor@gmail.com] दिल्ली - 2012-08-31 14:38:39

 
  अब इस पर नरेंद्र मोदी क्या कहेंगे... कुपोषण को सुंदरता से जोड़ने वाले तथाकथित विकास पुरुष की करीबी मंत्री ऐसे जघन्य अपराध में संलिप्त है.... अब कौन सा कार्ड चलेंगे `विकास पुरुष` जी.. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in