पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राज्य >महाराष्ट्र Print | Share This  

राज ठाकरे पर देशद्रोह का मुकदमा

राज ठाकरे पर देशद्रोह का मुकदमा

मुजफ्फरपुर. 2 सितंबर 2012

raj thakre


महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) अध्यक्ष राज ठाकरे पर बिहारियों के खिलाफ दिए गए उनके बयानों के कारण देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया गया है. उनके खिलाफ मुज़फ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में स्थानीय अधिवक्ता सुधीर कुमार ओझा ने मुकदमा दर्ज कराया है जिसकी सुनवाई 3 सितंबर को होगी.

उल्लेखनीय है कि विगत दिनों राज ठाकरे ने क्षेत्रवाद की राजनीति करते हुए बिहारियों पर निशाना साधा था और कहा था कि वे महाराष्ट्र में रहने वाले बिहारियों को घुसपैठिया करार दे देंगे और उन्हें महाराष्ट्र से खदेड़ देंगे. उन्होंने यह भी कहा था कि बिहार से आए हुए लोगों के कारण ही महाराष्ट्र में अपराध बढ़ रहे हैं.

राज ठाकरे के इन बयानों का सभी राजनीतिक पार्टियों ने विरोध किया और उन पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की थी. कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा था कि ठाकरे परिवार तो खुद ही मूलतः बिहार का रहने वाला है. राष्ट्रीय जनता दल (राजद) महासचिव रामकृपाल यादव ने इस बयान की आलोचना करते हुए कहा था कि महाराष्ट्र किसी की जागीर नहीं है कि कोई वहां के लोगों को जब चाहे खदेड़ दे.

जनता दल यूनाइटेड के प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा था कि केंद्र को मनसे प्रमुख के खिलाफ बिहारियों के खिलाफ लगातार बयान दिए जाने पर कार्रवाई करनी चाहिए. भाजपा नेता गिरीराज सिंह ने भी कहा कि यदि राज ठाकरे द्वारा पूर्व में ही उत्तर भारतीयों के खिलाफ दिए गए बयानों पर कड़ी कार्रवाई की जाती तो आज यह स्थिति नहीं आती.

बताया जा रहा है कि मामले पर बढ़ते विवाद को देखते हुए राज्य सरकार ने कहा है कि ठाकरे के बयान की जाँच की जाएगी और यदि कुछ आपत्तिजनक पाया जाता है तो उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी. वहीं खबर यह भी आ रही है कि केंद्र सरकार भी इस मामले में कार्रवाई करने की तैयारी में है.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

uksingh [uksingh@770gmail.com] patna - 2012-09-02 17:22:09

 
  सभी जानते हैं कि राज ठाकरे क्या है, फिर भी भारत सरकार की इतनी औकात नहीं है कि राज/बाल ठाकरे का कुछ कर सके. देख लेना ये इंडिया है बंधु. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in