पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >छत्तीसगढ़ Print | Share This  

थरूर ने कहा-भारतीय राष्ट्रवाद दुर्लभ पशु

थरूर ने कहा-भारतीय राष्ट्रवाद दुर्लभ पशु

नई दिल्ली. 4 सितंबर 2012

शशि थरूर


अपनी विवादास्पद टिप्पणियों के लिये मशहूर सांसद शशि थरूर ने कहा है कि भारतीय राष्ट्रवाद एक दुर्लभ पशु है और भारतीय धर्मनिरपेक्षता धर्म की अनुपस्थिति के रूप में धर्मनिरपेक्षता के पश्चिमी सिद्धांत के खिलाफ धर्मों का एक प्राचुर्य है.

शशि थरूर यहीं नहीं रुके. उन्होंने अपने वक्तव्य में यह भी जोड़ा कि एक तमिल ब्राह्मण एक जाट के साथ अपना धर्म बांट सकता है, लेकिन रूप-रंग, भाषा, भोजन और संस्कृति के संदर्भ में नहीं. उन्होंने कहा कि धर्म, क्षेत्र, जाति और जातीयता भारत को बांटते हैं.

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग द्वारा दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित 'हू इज एन इंडियन? अ नेशन ऑफ माइनॉरिटी' विषयक व्याख्यान में शशि थरूर ने कहा कि बहुलतावाद देश की प्रकृति से पैदा होता है. उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यकों की हिफाजत सरकारों की एक प्राथमिकता होनी चाहिए.

देश भर में चल रहे विभिन्न सामाजिक संघर्षों के कारण विस्थापित हुये 10 लाख लोगों के आंकड़े को लेकर शशि थरूर ने चिंता व्यक्त की और कहा कि आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों पर कोई कानून न होना एक कमी है. उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के लिए जरुरी कानून की कमी है और इस कमी को दूर करने की जरुरत है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in