पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >मुद्दा >बात Print | Share This  

मर्फी का जवाब देगी बर्फी

मर्फी का जवाब देगी बर्फी

मुंबई. 12 सितंबर 2012

बर्फी फिल्म


बर्फी फिल्म 14 सितंबर को ही रिलीज होगी और अनुराग बसु एंड कंपनी ने इसके लिये मर्फी एंटरप्राइजेस से संपर्क कर उनके कानूनी नोटिस को निपटाने की प्रक्रिया शुरु कर दी है. माना जा रहा है कि इस फिल्म में भले मर्फी कंपनी को श्रेय देने की जरुरत पड़े, कम से कम फिल्म के प्रदर्शन को टालने की नौबत न आये और मामला मुकदमेबाजी तक न पहुंचे.

गौरतलब है कि अनुराग बसु को अपनी फिल्म बर्फी में मर्फी रेडियो, मर्फी और मर्फी मुन्ना जैसे शब्दों के इस्तेमाल के कारण मर्फी एंटरप्राइजेस ने एक कानूनी नोटिस भेज कर कहा है कि इस फिल्म में उनके रजिस्टर्ड ट्रेडमार्क का बिना उनकी अनुमति के प्रयोग किया गया है. अनुराग बसु के अलावा फिल्म के निर्माताओं और युटीवी मोशन पिक्चर्स को भी कानूनी नोटिस थमाई गई है.

अनुराग बसु की यह फिल्म 14 सितंबर को रिलीज होने वाली है. फिल्म में रणबीर कपूर को गूंगे-बहरे मर्फी की भूमिका दी गई है. इस फिल्म में उसे बर्फी कह कर पुकारा जाता है. ऑटिस्टिक प्रियंका चोपड़ा और रणबीर कपूर का दोस्ताना है और इसी दोस्ताने में इलियाना डीक्रूज पड़ती है और मामला गड़बड़ा जाता है. फिल्म के दोनों किरदार असामान्य हैं. पूरी फिल्म को 70 के आसपास के दौर में बुना गया है.

अनुराग इस फिल्म को लेकर बहुत आशान्वित भी हैं लेकिन ऐन मौके पर इस नोटिस से उन्हें गहरा झटका लगा है. फिल्म के लोग डरे हुये हैं कि कहीं कानूनी दांवपेंच में मामला उलझ गया तो फिल्म के प्रदर्शन पर इसका असर पड़ सकता है.

मर्फी एंटरप्राइजेस ने अपने कानूनी नोटिस में इस बात को लेकर आपत्ति दर्ज कराई है कि फिल्म के टाइटल सांग में ‘मर्फी’, ‘मर्फी रेडियो’ और ‘मर्फी मुन्ना’ शब्दों का उपयोग किया गया है और इसके लिए कंपनी से इजाजत नहीं ली गई. कंपनी ने इन शब्दों के इस्तेमाल से कंपनी की छवि खराब करने का भी आरोप लगाया है. इसके लिये कंपनी ने निर्माताओं से हर्जाने के तौर पर 50 करोड़ रुपये का मांग की है. अब अनुराग बसु और फिल्म के निर्माताओं ने इस मामले को सुलझाने की कोशिश शुरु कर दी है. कहा जा रहा है कि इस फिल्म में ज़रुरत हुई तो वे मर्फी कंपनी को भी श्रेय देंगे.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in