पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

शिंदे के मजाक पर दिग्गी गंभीर

शिंदे के मजाक पर दिग्गी गंभीर

नई दिल्ली. 17 सितंबर 2012

दिग्विजय सिंह


जनता कोयला घोटाले को बोफोर्स घोटाले की तरह भूल जाएगी- भारत के गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे भले अपने इस बयान को मजाक में कही गई बात ठहरा चुके हैं लेकिन कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह सुशील कुमार शिंदे के बचाव में आ गये हैं.

गौरतलब है कि पुणे में एक कार्यक्रम के दौरान गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने कहा था कि पहले बोफोर्स बातचीत का एक मुद्दा होता था. लोग इसे भूल गए. अब ऐसा ही कुछ कोयला ब्लॉक आवंटन के साथ है, लोग इसे भी भूल जाएंगे. उन्होंने एक सवाल के जवाब पत्रकारों से ही पूछ लिया कि क्या आपको एनडीए कार्यकाल में हुआ पेट्रोल पंप घोटाला याद है? शिंदे के इस बयान पर जब हंगामा हुआ तो शिंदे ने यह कह कर अपना पल्ला छुड़ा लिया कि उन्होंने मजाक में यह बात कही थी.

लेकिन अब शिंदे के इस बयाने के पक्ष में दिग्विजय सिंह ने कहा है कि शिंदे के बयान को संदर्भ से परे रख कर देखा गया है. उन्होंने कहा कि शिंदे बोफोर्स पर लगाए गए गलत आरोपों से कोलगेट पर लगाए गए गलत आरोपों को जोड़कर देख रहे थे.

जदयू नेता शरद यादव ने शिंदे को इस बयान के बाद सलाह दी है कि वे राजनीतिक मुद्दों पर नहीं बोलें. इधर शिवसेना के कार्यकारी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा की शिंदे का बयान यह बताता है कि खुद शिंदे भी कांग्रेस पार्टी से परेशान हो गए हैं और उसे छोड़ना चाहते हैं.

माकपा महासचिव प्रकाश करात ने कहा कि लोग कांग्रेस के ‘कर्मों’ को नहीं भूलेंगे और उसे 2014 के आम चुनाव में उचित जबाव देंगे. उन्होंने कहा कि 2014 में शिंदे समझ जाएंगे कि लोगों की यादाश्त कितनी कमजोर है. भाकपा के डी. राजा ने भी शिंदे के बयान पर कहा कि कांग्रेस पार्टी और शिंदे को यह याद रखना चाहिए.

भाजपा नेता बलबीर पुंज ने कहा कि बोफोर्स को लेकर कांग्रेस सत्ता से बाहर हो गई और उसकी सीटों की संख्या आधी हो गई. लोग बोफोर्स मामले को भूले हैं या नहीं लेकिन कांग्रेस भूल गई है कि बोफोर्स के बाद उसके साथ क्या हुआ. इसके बाद कांग्रेस को अपने बूते बहुमत नहीं मिला.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in