पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

दिल में रहेंगे अन्ना हजारे

दिल में रहेंगे अन्ना हजारे

नई दिल्ली. 21 सितंबर 2012

अन्ना हजारे


अन्ना हजारे द्वारा अरविंद केजरीवाल की राजनीतिक पार्टी से सारे संबंध तोड़ने के निर्णय को केजरीवाल ने दुखद और चौंकाने वाला फैसला बताया है. अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि हम अन्ना हजारे का सम्मान करते हैं. वह हमारे गुरु और पिता समान हैं. उनकी घोषणाओं ने हमें हैरान किया है. यह पूरी तरह से चौंकाने वाला, दुखद, दुर्भाग्यपूर्ण और अविश्वसनीय था.

गौरतलब है कि बुधवार को अन्ना हजारे ने राजनीतिक पार्टी बनाने जा रहे केजरीवाल के नेतृत्व वाले समूह से अपना नाता तोड़ने की घोषणा की थी. अन्ना हजारे ने कहा कि उनके नाम या तस्वीर का इस्तेमाल नई पार्टी के साथ नहीं किया जाना चाहिए.

अन्ना हजारे के इस निर्णय से आहत अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अन्ना की तस्वीर और उनका नाम हमारे दिलों में छपा है. हम उनके चरण लगातार छूते रहेंगे और उनसे आशीर्वाद लेते रहेंगे. अन्ना के पांच सिद्धांत हमारे दल की नींव बनेंगे. अरविंद केजरीवाल ने स्पष्ट किया कि राजनीतिक दल बनाने के मुद्दे पर अन्ना हजारे ने हमें सर्वे कराने के लिए कहा था. इसके लिए एसएमएस और इंटरनेट इस्तेमाल करने का सुझाव उन्हीं का था.

अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर राजनीतिक दल बनाने की जरुरत पर बल देते हुये कहा कि देश बिकने के कगार पर है और यहां की हर चीज बेची जा रही है. हमारे सामने चुनौतियों के साथ-साथ अवसर भी हैं. हमारे विचार में कांग्रेस और भाजपा दोनों एक जैसी हैं.

 

इस समाचार / लेख पर पाठकों की प्रतिक्रियाएँ

 
 

Gurudatt Sharma [gurudattsharma7@gmail.com] Jaipur - 2012-09-21 07:04:32

 
  I totally agree with Mr Arvind Keseriwal that a New Party required to be set up against both parties. I also disappointed from Anna`s commits. 
   
सभी प्रतिक्रियाएँ पढ़ें

इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in