पहला पन्ना >राजनीति >दिल्ली Print | Share This  

सोनिया बेहतर पीएम होती-शरद यादव

सोनिया बेहतर पीएम होती-शरद यादव

नई दिल्ली. 21 सितंबर 2012

शरद यादव


एनडीए के संयोजक शरद यादव ने सत्ताधारी यूपीए की नेता सोनिया गांधी की तारीफ करते हुये कहा है कि देश ने उन्हें नेता के तौर पर चुना था और अगर वे प्रधानमंत्री रहती तो देश की ऐसी स्थिति नहीं होती. बीबीसी से बातचीत में शरद यादव ने कहा कि मनमोहन सिंह ऐसे व्यक्ति हैं जो विदेशी बाज़ार के अलावा दूसरी कोई चीज़ के बारे में नहीं सोचते हैं. इसमें ग़लती विपक्ष की है. शरद यादव ने कहा कि सोनिया गाँधी को पूरा देश नेता मान गया था. देश की सबसे बड़ी पार्टी सोनिया गाँधी को (नेता) मान गई थी. शरद यादव ने कहा कि हम कौन होते हैं ये कहने वाले कि वो इस देश में कब आईं. वो बैठतीं तो ढाई या तीन साल रहतीं, अच्छी होती तो रहतीं, बुरी होती तो हट जातीं.

शरद यादव ने इस बेबाक बातचीत में सोनिया गांधी की तारीफ के कसीदे काढ़ते हुये कहा कि अगर वो प्रधानमंत्री होतीं तो आज ये स्थिति नहीं होती, क्योंकि उन्हें पार्टी चलानी है. मनमोहन सिंह ने एक बार लोकसभा का चुनाव लड़ा और हार गए. उन्होंने तो कॉर्पोरेशन का चुनाव भी नहीं लड़ा. सोनिया गाँधी प्रधानमंत्री होतीं तो बिल्कुल बेहतर होता. देश इस तरह गड्ढे में नहीं जाता.

शरद यादव ने कांग्रेस के नेताओं पर हमला बोलते हुये कहा कि पी चिदंबरम, मोंटेक सिंह और मनमोहन को हटाए बिना देश नहीं चल सकता. ये लोग देश को जानते ही नहीं हैं. ये लोग अमरीका और यूरोप के लोगों के अंदाज़ में अंग्रेज़ी बोलते हैं. उन्होंने कहा कि यहाँ ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में पढ़े हुए लोगों का राज है. ये मुट्ठी भर लोग हैं लेकिन देश को पकड़े हुए हैं.

एनडीए नेता शरद यादव ने कहा कि जनता जब खड़ी होती है तो इंदिरा गाँधी जैसी बड़ी ताक़त भी हार जाती है. इंदिरा जी ने इमरजेंसी लगाई, लेकिन उन्होंने चुनाव भी करवा दिए. उनके चुनाव करवाने से वो हार भी गईं. हम उनसे तुलना इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने तो मात्र दो साल के लिए आज़ादी छीनी थी. खेती के बाद खुदरा व्यापार रोज़गार का सबसे बड़ा साधन है.