पहला पन्ना प्रतिक्रिया   Font Download   हमसे जुड़ें RSS Contact
larger
smaller
reset

इस अंक में

 

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

सवाल विकास की समझ का

प्रतिरोध के वक्ती सवालों से अलग

गरीबी उन्मूलन के नाम पर मज़ाक

जनमत की बात करिये सरकार

नेपाल पर भारत की चुप्पी

लोहिया काल यानी संसद का स्वर्णिम काल

स्मार्ट विलेज कब स्मार्ट बनेंगे

पाकिस्तान आंदोलन पर नई रोशनी

नर्मदा आंदोलन का मतलब

क्यों बढ़ रहा भूख का आंकड़ा

हमारे कुलभूषण को छोड़ दो

भारत व अमेरिका में केमिकल लोचा

युद्ध के विरुद्ध

किसके साथ किसका विकास

क्या बदल रहा है हिन्दू धर्म का चेहरा?

मोदी, अमेरिका और खेती के सवाल

 
  पहला पन्ना >कला >दिल्ली Print | Share This  

मल्लिका की कामुकता के कायल विवेक

मल्लिका की कामुकता के कायल विवेक

नई दिल्ली. 22 सितंबर 2012

मल्लिका शेरावत


किस्मत लव पैसा दिल्ली फिल्म भले 5 अक्टूबर को रिलीज होगी लेकिन फिल्म के प्रमोशन के तौर-तरीकों ने अभी से फिल्म की हालत बयान कर दी है. विवेक ओबराय और मल्लिका शेरावत की इस फिल्म को लेकर पिछले तीन महीने से प्रमोशन का काम चल रहा है लेकिन फिल्म की कहीं चर्चा ही नहीं हो रही है. एक ही टी शर्ट में घुसकर तस्वीर खींचवाने वाले विवेक और मल्लिका के इस प्रमोशन से काम नहीं चला तो अब विवेक अपनी बयानबाजी में सेक्स और कामुकता का तड़का लगाकर कर फिल्म को प्रमोट करने की असफल कोशिश कर रहे हैं.

विवेक ओबेराय का कहना है कि ये फिल्म एक रात पर आधारित है और उन्होंने इस फिल्म में एक पंजाबी लड़के का किरदार निभाया है. फिल्म में एक ही रात में ‘किस्मत लव पैसा दिल्ली’ से नायक का सामना होता है. लेकिन बात केवल फिल्म की कहानी की हो तो समझ में आता है.

विवेक ओबराय का कहना है कि मल्लिका शेरावत कामुकता का पर्याय हैं. उन्होंने अभिनेत्री के तौर पर बोल्ड महिला अवतार को सामने लाने के लिये जो योगदान दिया है, वह लाजवाब है. दूसरी ओर मल्लिका शेरावत ने विवेक ओबेराय की तारीफ के पूल बांधते हुये कहा कि इस फिल्म में निभा रहे किरदार के उलट विवेक एक सज्जन इंसान हैं.

जाहिर है, जब फिल्म प्रमोशन के सारे तीर निकल जाते हैं तो उसकी बोल्डनेस, कामुकता, सेक्स जैसे मुद्दों के सहारे काम निकालने की कोशिश होती है. लेकिन इस तरह का प्रमोशन करने वालों को यह बात समझनी चाहिये कि हाल ही में महेश भट्ट खेमा इन सारे कॉकटेल के बाद भी अपनी फिल्म हिट नहीं करा पाया और ऐसे प्रमोशन के तौर-तरीके कहीं न कहीं गंभीर दर्शकों को फिल्म से दूर ही करते हैं. जिन्हें कामुकता और सेक्स देखना है, उसके लिये पूरा पोर्न बाज़ार पसरा पड़ा है. हिंदी फिल्मों का दर्शक संसार अगर फिल्म देखना चाहता है तो वह कहानी चाहता है, अभिनय चाहता है, निर्देशन चाहता है.


इस समाचार / लेख पर अपनी प्रतिक्रिया हमें प्रेषित करें

  ई-मेल ई-मेल अन्य विजिटर्स को दिखाई दे । ना दिखाई दे ।
  नाम       स्थान   
  प्रतिक्रिया
   


 
  ▪ हमारे बारे में   ▪ विज्ञापन   |  ▪ उपयोग की शर्तें
2009-10 Raviwar Media Pvt. Ltd., INDIA. feedback@raviwar.com  Powered by Medialab.in